ब्लॉगसेतु

ऋता शेखर 'मधु'
114
गीत जाना जीवन पथ पर चलकरलगता नया नया हर पल हैधरती पर आँखें जब खोलींनया लगा माँ का आलिंगननयी हवा में नयी धूप मेंनये नये रिश्तों का बंधनशुभ्र गगन में श्वेत चन्द्रमालगता बालक सा निश्छल हैनया लगा फूलों का खिलनालगा नया उनका झर जानामौसम की आवाजाही मेंफिर से बगिया का भर ज...
 पोस्ट लेवल : गीत सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
सबको राह दिखाने वालेहे सूर्य! तुझको नमननित्य भोर नारंगी धारआसमान पर छा जातेखग मृग दृग को सोहेऐसा रूप दिखा जातेआरती मन्त्र ध्वनि गूँजेतम का हो जाता शमनहर मौसम की बात अलगशरद शीतल और जेठ प्रचंडभिन्न भिन्न हैं ताप तुम्हारेपर सृष्टि में रहे अखंडउज्ज्वलता के घेरे मेंनिरा...
 पोस्ट लेवल : कविता गीत सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
सोरठाहर पूजन के बाद, जलता है पावन हवन।खुशबू से आबाद,खुशी बाँटता है पवन।।1प्रातःकाल की वायु , ऊर्जा भर देती नई।बढ़ जाती है आयु, मिट जाती है व्याधियाँ।।2छाता जब जब मेह, श्यामवर्ण होता गगन।भरकर अनगिन नेह, पवन उसे लेकर चला।।3शीतल मंद समीर, तन को लगता है भला।बढ़ी कौन सी प...
 पोस्ट लेवल : छंद सोरठा सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
सबकी अपनी राम कहानी=================जितने जन उतनी ही बानीसबकी अपनी राम कहानीऊपर ऊपर हँसी खिली हैअंदर में मायूस गली हैकिसको बोले कैसे बोले अँखियों में अपनापन तोलेपाकर के बोली प्रेम भरीआँखों में भर जाता पानीमन का मौसम बड़ा निरालापतझर में रहता मतवालादिखे चाँदनी कड़ी धूप...
 पोस्ट लेवल : कविता गीत सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
फेसबुक पर एक समूह में पत्र लेखन प्रतियोगिता थी|62 प्रविष्टियों में...अच्छे पत्रों में हमारे पत्र को भी रखा गया इसके लिए खुश हूँ
 पोस्ट लेवल : कहानी सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
कल माँ पर लिखा...आज एक माँ लिखेगी ।हम उनके दिलों में रहते हैंइसको वे कहते नहींउनके काम बताते हैंलेखनी थामी जब हाथों मेंवे ब्लॉग बनाकर खड़े रहेममा को तुक की कमी न होशब्दों के व्यूह में पड़े रहेshabdvyuh.comहम उनके दिलों में रहते हैंइसको वे कहते नहींउनके काम बताते हैंज...
 पोस्ट लेवल : कविता दिवस सभी रचनाएँ
ऋता शेखर 'मधु'
114
अभिनंदन राम काभारत की माटी ढूँढ रहीअपना प्यारा रघुनंदनभारी भरकम बस्तों मेंदुधिया किलकारी खोई होड़ बढ़ी आगे बढ़ने कीलोरी भी थक कर सोईमहक उठे मन का आँगनबिखरा दो केसर चंदनवर्जनाओं की झूठी बेड़ीललनाएँ अब तोड़ रहींअहिल्या होना मंजूर नहींरेख नियति की मोड़ रहींविकल हुई मधुबन की...
ऋता शेखर 'मधु'
114
धरती को ब्याह रचाने दो------------------------------धरती ब्याह रचाती हैपीले पीले अमलतास सेहल्दी रस्म निभाती हैधानी चुनरी में टांक सितारेगुलमोहर बन जाती हैदेखो, धरती ब्याह रचाती है।आसमान के चाँद सितारेउसके भाई बन्धु हैंलहराते आँचल पर निर्मलबहता जाता सिंधु हैओढ़ चुनरि...
ऋता शेखर 'मधु'
114
जागो वोटर जागोअपने मत का दान कर, चुनना है सरकार।इसमें कहीं न चूक हो, याद रहे हर बार।।याद रहे हर बार, सही सांसद लाना है।जो करता हो काम, उसे ही जितवाना है।सर्वोपरि है देश, जहाँ पलते हैं सपने।'मधु' उन्नत रख सोच, चुनो तुम नेता अपने।।१जिम्मेदारी आपकी, चुनने की सरकार।सजग...
ऋता शेखर 'मधु'
114
गुलमोहर खिलता गया, जितना पाया ताप |रे मन! नहीं निराश हो, पाकर के संताप |।१उसने रौंदा था कभी, जिसको चींटी जान।वही सामने है खड़ी, लेकर अपना मान।।२रटते रटते कृष्ण को, राधा हुई उदास।चातक के मन में रही, चन्द्र मिलन की आस।।३रघुनन्दन के जन्म पर, सब पूजें हनुमान।आखिर ऐसा क्...