ब्लॉगसेतु

Basudeo Agarwal
0
(नेताजी)आज तेइस जनवरी है याद नेताजी की कर लें,हिन्द की आज़ाद सैना की हृदय में याद भर लें,खून तुम मुझको अगर दो तो मैं आज़ादी तुम्हें दूँ,इस अमर ललकार को सब हिन्दवासी उर में धर लें।(2122*4)*********तुलसीदास जी की जयंती पर मुक्तक पुष्पलय:- इंसाफ की डगर पेतुलसी की है जयं...
Basudeo Agarwal
0
करें सामना कोरोना का, जरा न हमको रोना है,बीमारी ये व्यापक भारी, चैन न मन का खोना है,संयम तन मन का हम रख कर, दूर रहें अफवाहों से,दृढ़ संकल्प सभी का ये हो, रोग पूर्ण ये धोना है।कोरोना का मतलब समझो कोई रोड पे ना निकले,लोगों के इस एक कदम से हल बीमारी का निकले,फैले जो छू...
Basudeo Agarwal
0
(करवाचौथ)त्योहार करवाचौथ का नारी का है प्यारा बड़ा,इक चाँद दूजे चाँद को है देखने छत पे खड़ा,लम्बी उमर इक चाँद माँगे वास्ते उस चाँद के,जो चाँद उसकी जिंदगी के आसमाँ में है जड़ा।(2212*4)*********(होली)हर तरु में छाया बसन्त ज्यों, जीवन में नित रहे बहार,होली के रंगों की जै...
Basudeo Agarwal
0
(विश्वकर्मा तिथि)सत्रह सेप्टेंबर की तिथि है, देव विश्वकर्मा की न्यारी,सृजन देव ये कहलाते हैं, हाथी जिनकी दिव्य सवारी,याद इन्हें तो करते सारे, भूल उन्हें पर हम जाते हैं,जिन मजदूरों से इस भू पर, खिलती निर्माणों की क्यारी।(32 मात्रिक छंद)*********(पर्यटक दिवस)विश्व-पर...
Basudeo Agarwal
0
सिमटा ही जाये देश का देहात शह्र में।लोगों के खोते जा रहे जज़्बात शह्र में।सरपंच गाँव का था जो आ शह्र में बसा।खो बैठा पर वो सारी ही औक़ात शह्र में।।221  2121  1221  212*********खड़ी समस्या कर के कुछ तो, पैदा हुए रुलाने को,इनको रो रो बाकी सारे, हैं कुहराम...