ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
कृति चर्चा: चुप्पियों को तोड़ते हैं  -  नवाशा से जोड़ते हैं  चर्चाकार : आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*                                सृष्टि के निर्माण का मूल 'ध्वनि'...
223
बाल सुलभ जिज्ञासाओं की अभिव्यक्तियाँ“खेलें घोड़ा-घोड़ा”      सहारनपुर निवासी डॉ.आर.पी.सारस्वत 2016 में मेरे द्वारा आयोजित “राष्ट्रीय दोहाकार समागम“ में खटीमा पधारे थे। मेरी धारणा थी कि ये दोहाकार ही हैं मगर तीन-चार दिन पूर्व मुझे इनक...
Lokendra Singh
101
भारतीय भाषाओं के सम्मान का अनुष्ठानयूँ तो मीडिया विमर्श का हर अंक ही विशेष होता है। हर अंक पठनीय और संदर्भ सामग्री से भरा पड़ा संग्रहणीय। कई ऐसे विषयों पर भी मीडिया विमर्श ने विशेषांक निकाले हैं, जिनकी मीडिया में भी अत्यंत कम चर्चा होती है और होती भी है तो वही पुरान...
kavita verma
249
कलमकार मंच द्वारा प्रकाशित मेरे कहानी संग्रह कछु अकथ कहानी के बारे में यहाँ पढिये और अच्छा लगे तो आर्डर भी यहीं कर दीजिए ।#booksfortrade#books#BookReviewhttps://kalamkarmanch.in/archives/1250
रविशंकर श्रीवास्तव
4
..............................
 पोस्ट लेवल : समीक्षा
3
उदात्त भावनाओं की शायरी       अदबी दुनिया में साधना वैद अब तक ऐसा नाम था जो काव्य के लिए ही जाना जाता था। किन्तु हाल ही में इनका कथा संग्रह “तीन अध्याय” और बाल कथा संग्र “एक फुट के मजनूँमियाँ” प्रकाशि...
223
उदात्त भावनाओं की शायरी        अदबी दुनिया में साधना वैद अब तक ऐसा नाम था जो काव्य के लिए ही जाना जाता था। किन्तु हाल ही में इनका कथा संग्रह “तीन अध्याय” और बाल कथा संग्र “एक फुट के मजनूँमियाँ” प्रकाशित हुआ तो लगा कि ये न केवल...
3
दिल से निकले ज़द्बातों की शायरी “सब्र का इम्तिहान बाकी है”      अभी कल ही की तो बात है। मैं तीन पुस्तकों के विमोचन के कार्यक्रम में सम्मिलित हुआ। जिनमें डॉ. सुभाष वर्मा कृत कत्आत और ग़ज़लों का  एक संग्रह “सब्र का इम्तिहान ब...
सुबोध  श्रीवास्तव
243
मेरे हसीन बचपन में कोई नयापन नहीं आता..‘कंगाल होता जनतंत्र’ अनिल कुमार शर्मा का पहला काव्य संग्रह है. यह संग्रह पिछले दो दशकों के आर्थिक, राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्र का एक ऐसा दस्तावेज़ है जिसने न सिर्फ लेखक की चेतना का ही निर्माण किया बल्कि आम जनमानस की...
 पोस्ट लेवल : पुस्तक समीक्षा
3
 उदात्त भावनाओं की शायरी“पेपरवेट”      पंजाबी मूल के कृषक परिवार में 1980 में जन्मी पेशे से शिक्षिका श्रीमती राजविन्दर कौर एक कामकाजी महिला हैं। मैंने अपनी अनुभवी दृष्टि से अक्सर यह देखा है कि कामकाजी महिलाओं का अधिकांश समय अपन...