ब्लॉगसेतु

rashmi prabha
40
मैं ही क्यों अर्से तकरह जाती हूँ पेशोपेश में !बिना किसी जवाब केबड़बड़ाती जाती हूँ,बिना किसी उचित प्रसंग केमुस्कुराती जाती हूँजबकि सामनेवाले के पासहोती है गजब की तटस्थता,स्याह कोहरे सी ख़ामोशी,और सिर्फ अपनी खींची हुई लकीरें ।...अगर चाहतीतो मैं भी अपने अासपासआत्मसम्मान...
rashmi prabha
40
लड़कियों की ज़िन्दगी क्या सच में दुरूह होती है ?क्या सच में उसका नसीब खराब होता है ?यदि यही सत्य है तो मत पढ़ाओ उसे !यदि उसे समय पर गरजना नहीं बता सकते तो सहनशीलता का सबक मत सिखाओ यह अधिकार रत्ती भर भी तुम्हारा नहीं  … माता-पिता हो जाने स...
rashmi prabha
40
एक चवन्नी बोई थी मैंने,चुराई नहीं,पापा-अम्मा की थी,बस उठाई और उसे बो दियाइस उम्मीद मेंकि खूब बड़ा पेड़ होगाऔर ढेर सारी चवन्नियाँ लगेंगी उसमेंफिर मैं तोड़ तोड़कर सबको बांटूंगी ...सबको ज़रूरत थी पैसों कीऔर मेरे भीतर प्यार थातो जब तक मासूमियत रहीबोती गई -इकन्नी,दुअन्नी,चवन...
rashmi prabha
40
मेसेज करते हुएगीत गाते हुएकुछ लिखते पढ़ते हुएदिनचर्या कोबखूबी निभाते हुएमुझे खुद यह भ्रम होता हैकि मैं ठीक हूँ !लेकिन ध्यान से देखो,मेरे गले में कुछ अटका है,दिमाग और मन केबहुत से हिस्सों मेंरक्त का थक्का जमा है ।. ..सोचने लगी हूँ अनवरतकि खामोशी की थोड़ी लम्बी चादर ले...
rashmi prabha
40
धू धू जलती हुई जब मैं राख हुईतब उसकी छोटी छोटी चिंगारियों ने मुझे बताया,बाकी है मेरा अस्तित्व,और मैं चटकने लगी,संकल्प ले हम एक हो गए,बिल्कुल एक मशाल की तरह,फिर बढ़ चले उस अनिश्चित दिशा में,जो निश्चित पहचान बन जाए ।मैं  नारी,धरती पर गिरकर,धरती में समाहित होकर,बं...
rashmi prabha
40
बेटी,यदि तुम सूरज बनोगीतो तुम्हारे तेज को लोग बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे,वे ज़रूरत भर धूप लेकर,तुम्हारे अस्त होने की प्रतीक्षा करेंगे ।सुबह से शाम तकएक ज़रूरत हो तुम ।जागरण का गीत हो तुम,दिनचर्या का आरम्भ हो तुम,गोधूलि का सौंदर्य हो तुम,घर लौटने का संदेश हो तुम ...फिर भ...
rashmi prabha
40
हादसे स्तब्ध हैं, ... हमने ऐसा तो नहीं चाहा था !घर-घर दहशत में है,एक एक सांस में रुकावट सी है,दबे स्वर,ऊंचे स्वर में दादी,नानी कह रही हैं,"अच्छा था जो ड्योढ़ी के अंदर ही हमारी दुनिया थी"नई पीढ़ी आवेश में पूछ रही,"क्या सुरक्षित थी?"बुदबुदा रही है पुरानी पीढ़ी,"ना,...
rashmi prabha
40
मैं वृक्ष,वर्षों से खड़ा हूँजाने कितने मौसम देखे हैं मैंने,न जाने कितने अनकहे दृश्यों का,मौन साक्षी हूँ मैं !पंछियों का रुदन सुना है,बारिश में अपनी पत्तियों का नृत्य देखा है,आकाश से मेरी अच्छी दोस्ती रही है,क्योंकि धरती से जुड़ा रहा हूँ मैं ।आज मैंने अपने शरीर से वस्...
rashmi prabha
40
पहले पूरे घर मेंढेर सारे कैलेंडर टँगे होते थे ।भगवान जी के बड़े बड़े कैलेंडर,हीरो हीरोइन के,प्राकृतिक दृश्य वाले, ...साइड टेबल पर छोटा सा कैलेंडररईसी रहन सहन की तरहगिने चुने घरों में ही होते थेफ्रिज और रेडियोग्राम की तरह !तब कैलेंडर मांग भी लिए जाते थे,नहीं मिलते तो...
rashmi prabha
40
मृत्यु अंतिम विकल्प है जीवन काया जीवन का दूसरा अध्याय है ?जहाँ हम सही मायनों मेंआत्मा के साथ चलते हैंया फिर अपूर्ण इच्छाओं की पूर्ति कारहस्यात्मक खेल खेलते हैं ?!औघड़,तांत्रिक शव घाट पर हीखुद को साधते हैं... आखिर क्यों !जानवरों की तरह मांस भक्षण करते हैंमदिरा का सेव...