ब्लॉगसेतु

Asha News
0
झाबुआ। त्रेता युग के फल बैर का औषधीय एवं पौराणिक महत्व विद्यार्थियों को बताने के उद्देश्य से शारदा विद्या मंदिर ग्राम बिलिडोज में '“शबरी उत्सव'' का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यार्थियों ने विभिन्न प्रजातियां की प्रदर्शनी लगाई। जिस तरह शबरी के प्रेम और भक्त...
अनंत विजय
0
अभी अभी क्रिसमस बीता है, उस अवसर पर एक मित्र से बात हो रही थी। उन्होंने बताया कि क्रिसमस के दो दिन पहले उनकी तीन साल की बिटिया ने उनसे पूछा कि ‘व्हेयर इज माइ क्रिसमस ट्री (मेरा क्रिसमस ट्री कहां है)?’ उसके पहले भी वो अपनी बिटिया के बारे में बताते रहते थे कि कैसे अग...
Asha News
0
एक तरफ श्री राम और दूसरी तरफ रावण, भारतीय सेना और पुलिस कर रहीं राम का स्वागत और रावण का अंतझाबुआ। स्थानीय राधा-कृष्ण मार्ग निवासी युवा पुनित संजय सकलेचा ने दीपावली पर्व पर सुंदर एवं मनमोहक रंगोली बनाकर संदेश दिया है कि मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम एवं रा...
Asha News
0
शारदा स्वर मंदिर की उल्लेखनीय उपलब्धिझाबुआ। नगर मे शारदा स्वर मंदिर संगीत क्लास एवं म्यूजिकल ग्रुप द्वारा प्रशिक्षित छात्रो ने राजा मानसिंह तोमर विश्व विश्वविद्यालय ग्वालियर से सगीत मे विशेष योग्यता के साथ उत्तीर्ण कर नगर मे संगीत के क्षेत्र मे नाम रोशन किया ह...
 पोस्ट लेवल : सांस्कृतिक cultural
अनीता सैनी
0
उसके हृदय में दरारें थीं जिससे सांसें फटकन-सी लगीं। पीड़ा आँगन में पसरी थी अदृश्य याचक की तरह। आँखें झुकाए नमी से हृदय की फटन छिपा रहा था वह।  कभी स्वाभिमान के मारे शब्दों से ढाक रहा था उन्हें। बिवाई समझ हृदय में मोम गलाकर भरा करती थी मैं।&n...
Asha News
0
झाबुआ। अमर शहीद चंद्रशेखर आज़ाद के शहादत दिवस पर संस्था लोकरंग और राष्ट्र जागरण मंच ने एक शाम आज़ाद के नाम कार्यक्रम का आयोजन स्थानीय आज़ाद चौक पर किया था। लोकरंग के कलाकारों  आज़ाद के जीवन के ऊपर नृत्य नाटिक की बेहतरीन प्रस्तुति दी।  आज़ाद के फौलादी इराद...
सुशील बाकलीवाल
0
         हिंदू धर्म में यह परम्परा है कि किसी भी मंदिर में दर्शन के बाद बाहर आकर मंदिर की पेढी या ओटले पर दो मिनिट तो बैठना ही चाहिये । क्या आप जानते हैं कि इस परम्परा के पीछे कारण क्या है ?          &nbsp...
Ravindra Prabhat
0
प्रमुख भारतीय संस्था परिकल्पना के तत्वावधान में विगत 5 जनवरी से 12 जनवरी 2020 तक संयुक्त अरब अमीरात के दो प्रमुख शहर क्रमश: शारजाह, दुबई, भारतीय शहर कोच्चि होते हुये मालदीव की राजधानी माले तक आयोजित अंतरराष्ट्रीय हिन्दी उत्सव यात्रा में लखनऊ के वरिष्ठ साहित्यकार और...
Pratibha Kushwaha
0
निर्भया जैसे भीभत्स कांड के बाद, और सख्त कानून बनने, कई तरह की गाइड लाइन जारी होने के बावजूद कई जघन्य अपराध हो चुके हैं और भी होने की पूरी संभावना है।प्रश्न है कि देश के नियंता माननीय अब तक महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों के प्रति जरा भी संवेदनशील क्यों नहीं हुए...
Asha News
0
16 दिसंबर की तारीख आते ही हर भारतीय को साल 1971 याद आ जाता है। यह वही तारीख जब भारत और पाकिस्तान युद्ध में भारत की सबसे बड़ी जीत हुई थी। 3 दिसंबर को पाकिस्तान ने भारत के 11 एयरफील्ड्स पर हमला किया था। इसके बाद यह युद्ध शुरू हुआ और महज 13 दिन में भारतीय जांबाजों ने प...