ब्लॉगसेतु

रवीन्द्र  सिंह  यादव
0
पसीने से लथपथ बूढ़ा लकड़हारा पेड़ काट रहा है शजर की शाख़ पर तार-तार होता अपना नशेमन अपलक छलछलाई आँखों से निहार रही हैएक गौरैया अंतिम तिनका छिन्न-भिन्न होकर गिरने तक किसी चमत्कार की प्रतीक्षा में विकट चहचहाती रही न संगी...
sanjiv verma salil
0
दोहा गाथा ७दोहा साक्षी समय कासंजीवयुवा ब्राम्हण कवि ने दोहे की प्रथम पंक्ति लिखी और कागज़ को अपनी पगड़ी में खोंस लिया। बार -बार प्रयास करने पर भी दोहा पूर्ण न हुआ। परिवार जनों ने पगड़ी रंगरेजिन शेख को दे दी। शेख ने न केवल पगड़ी धोकर रंगी अपितु दोहा भी पूर्ण कर दिय...
sanjiv verma salil
0
नवगीतसाक्षी*साक्षीदेगा समय खुद*काट दीवारें रही हैंतोड़ना है रीतियाँ सबथोपना निज मान्यताएँभुलाना है नीतियाँ अबकौन-किसका हाथ थामेछोड़ दे कब?हुए कपड़ों की तरहअबदेह-रिश्ते,नेह-नातेकूद मीनारें रही हैंसाक्षी देगा समय खुद*घरौंदे बंधन हुए हैंआसमानों की तलब हैलादना अपना नजर...
 पोस्ट लेवल : नवगीत साक्षी
Pratibha Kushwaha
0
घर से भागी हुई साक्षी मिश्रा देशवासियों के लिए एक‘राष्ट्रीय’ समस्या बन गई हैं। इसलिए टीवी चैनलवालों ने भी उन्हें लपक लिया। लेकिन टीवी चैनलों में इस बहस-मुहाबसे के बीच मुंबई में एक लड़की की हत्या उसके पिता ने ही कर दी, क्योंकि उसने उनकी मर्जी के खिलाफ जाकर शादी की थ...
विजय राजबली माथुर
0
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) यह विवाह एक युवक व एक युवती का है लेकिन इससे भाजपा के भीतर राजनीतिक उथल -पुथल मच गई है क्योंकि युवती यदि एक भाजपा विधायक की पुत्री है तो युवक दूसर...
sanjiv verma salil
0
नवगीत साक्षी * साक्षी देगा समय खुद * काट दीवारें रही हैं तोड़ना है रीतियाँ सब थोपना निज मान्यताएँभुलाना है नीतियाँ अब कौन- किसका हाथ थामे छोड़ दे कब? हुए कपड़ों की तरह अब देह-रिश्ते, नेह-नाते कूद मीनारें रही हैं साक्षी देगा समय खुद * घरौंदे बंधन हुए हैं आस...
 पोस्ट लेवल : नवगीत साक्षी sakshee navgeet
sanjiv verma salil
0
दोहा मुक्तिका-*साक्षी साक्षी दे रही, मत हो देश उदासजीत बनाती है सदा, एक नया इतिहास*कर्माकर ने दिखाया, बाकी अभी उजास हिम्मत मत हारें करें, जुटकर सतत प्रयास *जीत-हार से हो भले, जय-जय या उपहास खेल खिलाड़ी के लिए, हर कोशिश है खास *खेल-भावना ही हरे, दर्शक मन की प्यास हॉक...
अनंत विजय
0
संसद के बजट सत्र के पहले राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के सदर मोहन भागवत जी का एक अहम बयान आया है । उन्होंने चालीस बच्चे पैदा करने की नसीहतों को नकारते हुए कहा है कि महिलाएं बच्चा पैदा करने की मशीन नहीं हैं । दरअसल बीजेपी के साक्षीमहाराज जैसे सांसद, एक मंत्री और कथित तौ...
प्रतिभा सक्सेना
0
* कोशिश करता हूँ पर  संयत नहीं रह पाता. अंदर -अंदर कुछ उफनता है .कहीं नहीं टिकता मन, बार-बार उखड़ता है .कुछ सोचता हूँ ,कुछ कह जाता हूँ - फिर उस  आँच  में दहता हूँ. अभी बारह दिन और निकालने हैं यहाँ .फिर तो ट्रेनिंग पर रहूँगा   .वातावरण...