ब्लॉगसेतु

Saransh Sagar
0
नमस्कार पाठको ! बीते दिनों काफी दिनों से परेशान और व्यथित था ! कहीं न कहीं समाज की मान्यताओं को मै भी  मानने लगा था ! जिस तरह से ज्ञानसागर परिवार को मै वर्ष २०१५ से समय दे रहा था उस जैसे अब शायद नही दे रहा हूँ क्योंकि समाज की मान्यताओं ने मुझे मेरा जीवन, परिवा...
अनीता सैनी
0
 मैं यह नहीं कहूँगीकि उसकी समझ के पिलरउखड़ चुके हैं और वहजीवन से इतर भटक चुकी थी।  कदाचित मन की नीरवतारास्ते के छिछलेपन में उलझी भूख की खाई को भरते हुए समय के साथ ही विचर रही।  इसलिए मैं यह कहूँगीकि भय से अनभिज्ञ दौड़ते हुए वाक...
 पोस्ट लेवल : सामाजिक सरोकार घटना
ज्योति  देहलीवाल
0
5000 रुपए में एक किलों गुड़, विश्वास नहीं होता न! लेकिन ये कोई फेक न्यूज़ नहीं है। हमारे देश में कलाकारों की कमी नहीं है। लेकिन हमारा दुर्भाग्य है कि हमारा मीड़िया ऐसे कलाकारों की, असली हीरों की कहानियां हमें बताता ही नहीं। इसलिए मैं "आपकी सहेली-ज्योति देहलीवाल" अपने...
Asha News
0
रतलाम। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर 23 जनवरी को पराक्रम दिवस रतलाम में भी मनाया गया। इस अवसर पर रतलाम कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में उपस्थित कलेक्टर गोपालचंद्र डाड, अपर कलेक्टर श्रीमती जमुना भिड़े, एसडीएम अभिषेक गहलोत, डिप्टी कलेक्टर सुश्री शिराली जैन, सुश्री मनीषा वास...
 पोस्ट लेवल : रतलाम ratlam सामाजिक
ज्योति  देहलीवाल
0
दोस्तों, शीर्षक 'जिंदगी में थोड़ा सा दुःख जरूरी है...' पढ़ कर शायद आप सोच रहे होंगे कि आज मैं ये कैसी बात कर रहीं हूं...कोई भी इंसान यह नहीं चाहेगा कि उसकी जिंदगी में थोड़े से दुःख के लिए भी कोई जगह हो। हर इंसान यहीं चाहता है कि उसकी जिंदगी में सिर्फ़ और सिर्फ़ सुख ही ह...
ज्योति  देहलीवाल
0
साल 2009 में आई फ़िल्म 'थ्री इडियट्स' आज भी हम सभी के जेहन में बसी हुई है। खासकर फ़िल्म के एक किरदार 'रैंचो' के मुंह से निकले संवाद तो कई लोगों को जुबानी याद हो गए है। इसका एक संवाद था,"सक्सेस के पीछे मत भागो,एक्सिलेंस के पीछे भागों...सक्सेस झक मार के तुम्हारे पीछे आ...
यूसुफ  किरमानी
0
लेखिका : अरूणा सिन्हाटीवी देखने का टाइम कहां था मेरे पास। जब तक बच्चे और ‘ये’ स्कूल-ऑफिस के लिए निकल नहीं जाते तब तक एक टांग पर खड़े-खड़े भी क्या भागना-दौड़ना पड़ता था। कभी यह चाहिए तो कभी वो - मेरा रूमाल कहां है? मेरे मोजे कहां हैं? तो नाश्ता अभी तक तैयार नहीं हुआ...
ज्योति  देहलीवाल
0
मोदी सरकार कृषि विधेयक 2020 के तहत 3 मुख्य विधेयक लाई हैं। इन्हीं तीन बिलों को लेकर किसान आंदोलन कर रहे है। कुछ लोग कह रहे है कि किसान बिल को समझने में नाकाम है, तो कुछ कह रहे कि सरकार किसान विरोधी है, तो कुछ इसे विपक्ष की साजिश बता रहे है। आम जनता असंमजस में है कि...
अनीता सैनी
0
 वह चला गयाकुछ बड़बड़ाते हुए फिर कभी न लौटने केवादे के साथख़ामोशी की धुँध में उदासी को ओढ़ेमानवमंशा से मिले ज़ख़्मों कोस्वाभिमान की चादर सेबार-बार ढकता हुआ पलकें झुकाएन हिला न डुलान कुछ बोला बस चला गया चुपचाप।मन की वीथियाँ   बुहारत...
ज्योति  देहलीवाल
0
दोस्तो, सबसे पहले आप सबको 'आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल' की ओर से नए साल की बहुत बहुत बधाई। ईश्वर से प्रार्थना है कि आप अपने नए साल के रेसोल्युशन पूरे करने में सफल रहे... नए साल पर ज्यादातर लोग कोई न कोई रेसोल्युशन (resolution) याने संकल्प जरुर लेते है। मैं यहां...