ब्लॉगसेतु

Saransh Sagar
198
घर बैठे बोर हो रहे होंगे और आप अगर आपके घर य आस-पड़ोस में कुछ अनबन,कलह क्लेश हो तो इस वीडियो में आपको वो बातें जानने को मिलेंगी जो बिलकुल सामान्य है !! जिसे सुनकर आप बिना ज्यादा धन खर्च किये आसानी से लोगो के समस्याओ का समाधान कर पाएंगे ! राजेश जोशी जी की इस वीडियो क...
Saransh Sagar
198
२९ मार्च २०२० को ये फोटो मेरे ग्रुप ज्ञानसागर पर किसीने साझा करी जिससे देखकर मै भी प्रभावित और प्रेरित हुआ ! अपने सामर्थ्य अनुसार सहायता जो कर सकता था वो किया पर इस बहन जी और इनके पति देव के इस प्रयास से काफी लोगो को प्रोत्साहन और आत्म संतोष हुआ साथ ही साथ अन्य सेव...
Saransh Sagar
198
नमस्कार पाठकों, आज आप सब के साथ मै कुछ अपना अनुभव साझा करने वाला हूँ ! ये बात है उन दिनों की जब मै छोटा था और जब से होश संभाला है तब से लेकर आज तक टेलेफोन से स्मार्ट फोन की कहानी आपको बताने वाला हूँ !! मै करीब 6 साल का होता होऊंगा जब मुझे याद है पापा की दुकान जिसका...
Saransh Sagar
198
विषय संवेदनशील है पर इस समय कोई भी व्यक्ति इससे अपरिचित नही रह गया है इसीलिए सभी मित्रों,अग्रज व अनुज के विचार आमंत्रित है !!! रेप , ब्लात्कार य दुष्कर्म जैसी घटनायें होने के क्या क्या कारण है ? वो कौन से तत्व है जो इन अपराधों को जन्म देते है !! रेप , ब्लात्का...
Saransh Sagar
198
कड़वा है पर सत्य है !! बलात्कार जैसे जघन्य अपराध को सहन करने वाला समाज आज प्रेम विवाह को बर्दाश्त नही कर सकता ! जितना विरोध इस पर लोगो का आता है उतना ऐसे अपराध करने वाले लोगो के विरोध , अपराध को बढ़ाने वाले कारक य उन परिवार के प्रति सहानुभूति के प्रति नही !! ऐसा...
Saransh Sagar
198
आज के समय में वंश बढ़ाने , समाज में अपने परिवार के अंश को जिम्मेदारी देने व् कई उद्देश्यों के साथ विवाह की महत्वता ऋषि मुनियों ने बतलाई है और हमारे पूर्वजो ने भी इसके कई फायदे बतलाये है ! कई तपस्वी का मानना है कि गृहस्थ आश्रम से बढ़कर कोई तप भी नही !! इसीलिए समाज में...
Saransh Sagar
198
आज तमाम नेता और समाज सेवा के नाम पर प्रचार करने वाले कुछ लोग शौक और लोकप्रियता के लिए झाड़ू उठाते फिर रहे है ! जो अपने घर में झाड़ू,पोछा नही कर सकते वो अब स्वच्छता का ज्ञान पेल रहे है ! इस अभियान को फ़ैलाने का उद्देश्य तो सकारात्मक था पर इस अभियान के नाम पर वोट बैंक ब...
Saransh Sagar
198
नाम - कुशमा गोसाईं.., 10 साल का बेटा - रामू गोसाईं..,चारों थैलों का वजन 105 किलो.. आज दोपहर करीब 3:00 बजे जब मैं "गुलधर" रेलवे स्टेशन पर उतरा तो सहसा कानों में एक आवाज सुनाई दी--"भैया ई थैला उठवा दीजिए तो "।  पीछे मुड़कर देखा तो लगभग 30 साल की एक महिला खड़ी थ...
Saransh Sagar
198
एक मनोरंजक कविता - कॉलेज का माहौल | Gyansagar ( ज्ञानसागर )कॉलेज में शुरू के दिनों के बाद का अनुभव को कविता में प्रस्तुत करने की छोटी कोशिश की हैकॉलेज का माहौल है ऐसा,नही सोचा था कभी मैंने जैसाहोती है पढ़ाई यहां दिन भर,नही लगता मेरा जी मनआता मजा जब आते गणित के सर,लग...
Saransh Sagar
198
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); देखिये ! महंगाई का मौसम है और कहने को विकास हो रहा है पर सच पूछिए विकास और फ्री के नाम पर घोटाले और विनाश हो रहे है ! मूर्ख  बनाने की अगर आप क्षमता रखते है तो आप अच्छे सफल व्यापारी है ये आज कई लोगो का व्...