ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
साहित्य त्रिवेणी के रचनाकार अतिथि संपादक१. डॉ. इला घोष, २१ आदित्य कॉलोनी, नर्मदा मार्ग जबलपुर म.प्र., चलभाष ९८९३७९८७७२  <narayandutt41@gmail.com>२. संजीव वर्मा 'सलिल' salil.sanjiv@gmail.com ३. डॉ. सरस्वती माथुर ए २ हवा सड़क, सिविल लाइन जयपु...
sanjiv verma salil
6
सम्पादकीय:साहित्य: अनुभूति को अभिव्यक्त करने की सुरुचि पूर्ण कला साहित्य की जन्मदात्री है. ’सहितस्य भाव:’ तथा ‘हितेन सहितं’ के निकष पर साहित्य में सबका साथ होना तथा सबके लिए हितकर होना आवश्यक है. साहित्य में बुद्धि, भाव, कल्पना तथा कला तत्वों का सम्मिश्रण अपरिहार्य...
sanjiv verma salil
6
१६ छंद: एक परिचयडॉ.सरस्वती माथुरपरिचय:डॉ .सरस्वती माथुर, संपर्क: ए-2,सिविल लाइन्स, जयपुर -६*  छंद क्या है: कविवर रामधारी 'सिंह ' दिनकर' के अनुसार 'छंद स्पंदन समग्र सृष्टि में व्याप्त है। कला ही नहीं जीवन की प्रत्येक शिरा में यह स्...
sanjiv verma salil
6
साहित्य त्रिवेणी छंद विशेषांक अप्रैल-जून २०१८ *अतिथि संपादक: आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' विश्व वाणी हिंदी संस्थान, ४०२ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१ चलभाष: ७९९९५५९६१८, ईमेल: salil.sanjiv@ gmail.comसंपादक: डॉ. कुंवर वीर सिंह 'मार्तंड'...