नदी, चांद, सितारे सब जुदा हो गएमैं चमकता रहा सनम तुम्हारे प्यार मेंमुझमे दिखता रहा अक्स किसी और कामेरे लिए वो पागल थी और मैं सनम के प्यार मेंउसे छोड़ दिया मैंने जो मुझे चाहती बहुत थीमुझे छोड़ दिया किसी ने अपने सनम के प्यार मेंये जो जुदाई का आलम है वर्षों बाद अबमैं हो...