ब्लॉगसेतु

kumarendra singh sengar
30
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय हैं. सोशल मीडिया पर विभिन्न मंचों पर उनके फॉलोअर की संख्या बहुत अधिक है. ट्विटर पर भी उनके 53.3 मिलियन फॉलोअर हैं. वे खुद तो सोशल मीडिया पर लगातार सक्रिय रहते ही हैं, लोगों को भी इन मंचों का लाभ उठाने की, इनसे...
kumarendra singh sengar
30
पिछले दिनों दिल्ली में हुई हिंसा ने दिल्ली को बेबस कर दिया. उसकी इस बेबसी में स्वतंत्र सोशल मीडिया अपनी तरह से चाल चलता दिखा. दिल्ली हिंसा के बेबसी भरे दौर में बहुतेरे लोग सोशल मीडिया की सम्पादक-मुक्त स्वतंत्रता का दुरुपयोग करते भी दिखाई दिए. यह सही है कि सोशल मीडि...
संतोष त्रिवेदी
106
साधक जी गहरे सदमे में थे।उनके प्रिय लेखक का निधन हो गया था और यह ख़बर उन्हें पूरे बत्तीस मिनट की देरी से मिली थी।अब तक तो सोशल मीडिया में कई लोग बाज़ी मार ले गए होंगे।यह उनकी अपूरणीय क्षति थी।फिर भी उन्होंने ख़ुद को संभाला।ऐसा करना ज़रूरी था नहीं तो क्षति और व्यापक...
यूसुफ  किरमानी
195
यह मौक़ा है सच, झूठ, मक्कारी को पहचानने का...अगर आप आस्तिक हैं और आपके अपने अपने भगवान या अल्लाह या गुरू हैं तो आपको इसे समझने में मुश्किल नहीं होनी चाहिए...अगर आप नास्तिक या जस के तस वादी हैं तो इतनी अक़्ल होगी ही कि सही और ग़लत में किसका पलड़ा भारी है...शाहीन बाग...
kumarendra singh sengar
30
कुछ पुराने मित्रों को याद किया और कुछ नए मित्रों की सुध ली. इस बार का दशहरा, दीपावली कुछ खाली-खाली सी नजर आई. इसके पार्श्व में कतिपय घटनाक्रमों का भी होना रहा मगर उससे ज्यादा लोगों का अब सोशल मीडिया के द्वारा त्योहारों को मना लेना भी रहा. हमारे परिवार सहित कुछ मित्...
Krishna Kumar Yadav
133
सृजन एवं अभिव्यक्ति की दृष्टि से हिंदी दुनिया की अग्रणी भाषाओं में से एक है। हिन्दी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि हम सबकी पहचान है, यह हर हिंदुस्तानी का हृदय है। हिन्दी को राष्ट्रभाषा  किसी सत्ता ने  नहीं बनाया, बल्कि भारतीय भाषाओं और बोलियों के बीच संपर्क...
kumarendra singh sengar
30
सोशल मीडिया ने नियंत्रण के सारे बिन्दुओं को किनारे लगा रखा है. इस मंच पर न रिश्तों की कोई कद्र है, न संबंधों की, न उम्र की. इसकी उन्मुक्तता ने सभी को आज़ादी दे रखी है और वह भी पूरी तरह से निरंकुशता वाली. इस निरंकुश आज़ादी की कीमत लोगों के अपमान से, लोगों की बेइज्जती...
kumarendra singh sengar
30
सोशल मीडिया पर जिस दौर में हमारा आना हुआ था तब लोगों ने बताया-समझाया था कि यहाँ बौद्धिक चर्चा होती है, आपसी विमर्श होता है. बहुतेरे लोगों ने हमारे पढ़ने-लिखने के शौक को देखते हुए बताया था कि इसके माध्यम से अच्छा पढ़ने को मिलेगा और उससे लिखने में सहायता मिलेगी. शुरुआत...
Lokendra Singh
104
'अभिव्यक्तिकी आजादी' पर एक बार फिर देशभर में विमर्श प्रारंभ हो गया है। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादित टिप्पणी करने और वीडियो शेयर करने के मामले में एक स्वतंत्र पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी से यह बहस प्रारंभ हुई है। इस बहस में एक जरूरी...
kumarendra singh sengar
30
तकनीकी रूप से कई बार आभास होता है कि हम बहुतों से बहुत पीछे हैं, बहुत पिछड़े हैं. हमारे साथ के ही बहुत से लोग हमसे कई सालों पहले से कंप्यूटर का उपयोग करने लगे थे. हमने पहली बार कंप्यूटर का आंशिक उपयोग शायद 1999 में करना शुरू किया था. हालाँकि देखने और छूने को तो सन 1...