ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
23
Hindi Storyआय विल कॉल यू!— रूपा सिंहयह मोबाइल फोन युग है, और सेक्स भला इससे कैसे अछूता रह सकता है? तकनीकी सम्पन्नता के बावजूद वैश्विक अभाव इंसान को कितना विवश कर देता है, चाहे वह स्त्री हो या पुरुष, यह मर्म यहाँ कहानी में दीख रहा है.   प्रो रूपा सिंह अपने...
Bharat Tiwari
23
परिपक्व हिंदी कहानी काई— उषाकिरण खानएक दिन विपिन ने कहा था - ‘‘इजोतिया को तुम क्यों नहीं अपनी एकआध चोली दे देती हो? तुम्हारे नाप का ही तो आयेगा।’’‘‘वह पहनना ही नहीं चाहती है शैतान। कहती है बंधन-सा लगता है। लेकिन तुम उसके नाप के बारे में कैसे कह सकते हो? क्या ब...
Bharat Tiwari
23
ममता कालिया की कहानी 'पीठ'बेवजह शक बेवजह कुंठाग्रस्त करता है (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ममता कालिया जी को हिंदी कथाप्रेमी यों ही नहीं हाथों-हाथ लिए रहता। उनकी यह कहानी 'पीठ' साहित्य लेखन के दर्पण-सी है। उन्होंने ...
Bharat Tiwari
23
प्रतियोगिता का दबाव और कहानीतो परियां कहां रहेंगी— आकांक्षा पारे काशिव (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); 100% पढ़ी जाने वाली और 101% तसल्ली बख्श कथा है आकांक्षा पारे काशिव की 'तो परियां कहां रहेंगी'। ज़िन्दगी की वह जंग जो एक सन्तान प्रतियोग...