ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
19
उसकी ख़ामोशी खँगालती है उसे, वो वह  नहीं है जो वह थी, उसी रात ठंडी पड़ चुकी थी देह उसकी, हुआ था उसी रात उसका एक नया जन्म, एक पल ठहर गयीं थीं साँसें उसकीं,   खुला आसमां हवा में साँसों पर प्रहार, देख चुकी थी अवाक-सी वह,&nbsp...
अनीता सैनी
19
 सदानीरा नदी कावेरी,  कर्नाटक, उतरी तमिलनाडु में बहती, पश्चिमी घाट के पावन पर्वत ब्रह्मगिरी से उपजी,  दक्षिण पूर्व में प्रबल प्रवाह प्रेम का प्रवाहित कर,  बंगाल की खाड़ी में जा मिली |कुछ दर्द वक़्त का यूँ निखरा, साँसो...
Roli Dixit
163
"कहां था बेटा...फोन तक नहीं उठाया..." मां की आवाज डू&#2...
Roli Dixit
163
Roli Dixit
163
मेरे भीतर की स्त्री ने दम तोड़ दिया था,जब माँ सा &...
Roli Dixit
163
तुम्हारे अंदर होती जरा सी हरकतबढ़ा देती है मेरी आहट,तुम्हारी मासूम सी हथेलियों की छुअनकई बार मेरी आँखें नम कर जाती है,जरा सा करवट बदलतेतुम्हारा कसकर पकड़नाजैसे छूट ही जाओगी मुझसे;तुम दूर होती ही कब होजब जगती हो तो सवालों मेंऔर सोते ही खयालों मेंकाबिज़ हो चुकी हो पूरी...
मुकेश कुमार
172
सफ़र के आगाज में मैं था तुम साजैसे तुम उद्गम से निकलती तेज बहाव वाली नदी की कल कल जलधाराबड़े-बड़े पत्थरों को तोड़तीकंकड़ों में बदलती, रेत में परिवर्तित करतीबनाती खुद के के लिए रास्ता.थे जवानी के दिनतभी तो कुछ कर दिखाने का दंभ भरतेजोश में रहते, साहस से लबरेज&nb...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
306
क्षणिकाऐं स्वप्न-महल  बनते हैं महल सुन्दर सपनों के चुनकर उम्मीदों के नाज़ुक तिनके लाता है वक़्त बेरहम तूफ़ान जाते हैं बिखर तिनके-तिनके। सफ़र जीवन के लम्बे सफ़र में समझ लेता है दिल जिसे हमराह...
रवीन्द्र  सिंह  यादव
306
हम रस्म-ए-वफ़ा निभाने की,पुर-असर कोशिशें करते रहे।सुलगती याद फैली हुई है चार सू,ग़म-ज़दा होने की और फ़रमाइशें करते रहे।मायूसियाँ आरज़ू के साथ चलीं,मोहब्बत में गुंजाइशें करते रहे।वो आइना जिसमें जल्वे छाये थे,उसकी गवारा सब...
दीपक कुमार  भानरे
279
तय# होते रहें सफ़र# ए जिंदगी# !कुछ की गोद में है खेले ,कुछ की ऊँगली पकड़ चलना सीखे ।तो कुछ सीख देकर चले गए,तय होते रहें सफ़र ए जिंदगी ।कोई कम उम्र में ही छूटे,तो किसी के जीवन बहुत लंबे बीते ।एक एक कर  साथ छुटे , तय होते रहें सफ़र ए जिंदगी ।किसी से अपने थे रूठे, तो...
 पोस्ट लेवल : jindgi सफ़र Safar जिंदगी