ब्लॉगसेतु

सुमन कपूर
315
मन ! भूल जाना तुम इस एक दिनसुख दुख का हिसाबऔर जी भर जीना सकूनसाल के बाकी दिनों कोमिट्टी में मिला करबीज देना नव वर्ष का अंकुरभ्रम के दरवाजे परलगा कर निश्चय का तालाप्रतिपादित करना नया स्वरूपमाँग लेना दुआ मेंअपने हिस्से की कुछ खुशीत्याग देना निराशा का भाव मन...
 पोस्ट लेवल : जन्मदिन उपहार
सुशील बाकलीवाल
333
                   इस बार के महाराष्ट्र विधान सभा के चुनावों के बाद सभी राजनीतिक दलों में सत्ता के लिये जो महासंग्राम हुआ, वो समूचे देश ने शताब्दी के इकलौते उदाहरण के रुप में रुचिपूर्वक देखा । अंतत: महाराष्ट्र के इस...
अनीता सैनी
19
 यादें तुम्हारी, अनगिनत यादें ही यादें,  छिपाती हूँ, जिन्हें व्यस्तता के अरण्य में,  ख़ामोशी की पतली दीवार में, ओढ़ाती हूँ, उनपर भ्रम की झिमि चादर,  मुस्कुराहट सजा शब्दों पर,  अकेलेपन की बातों...
kumarendra singh sengar
30
महाराष्ट्र में राजनीति के ऊँट ने कई बार इधर-उधर करवटें बदलते हुए अंततः उस तरह करवट ले ली, जिस तरफ किसी ने सोचा न था. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के साथ ही एक ऐसा अध्याय जुड़ गया जो राजनीति की कल्पना में ही संभव कहा जायेगा. जैसा कि कहा जा...
Saransh Sagar
229
पुणे पुलिस के संदीप सूर्यवंशी का गाना हो रहा है वायरल !.facebook-responsive { overflow:hidden; padding-bottom:75.25%; position:relative; height:0; } .facebook-responsive iframe { left:0; top:0; height:100%; width:100%; position:...
Saransh Sagar
229
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालय की प्रतिभा मीडिया कभी नही दिखाएगी !!  .facebook-responsive { overflow:hidden; padding-bottom:56.25%; position:relative; height:0; } .facebook-responsi...
Kajal Kumar
17
8
       आज सुबह–सुबह मेरे आयुर्वेदिक चिकित्सालय में गठिया-वात का इलाज कराने के लिए जाहिद हुसैन पधारे!      जाहिद हुसैन जब अपनी औषधि ले चुके तो मुझसे बोले - “सर! आप देसी हैं या पहाड़ी हैं।”       मैंने...
मनीष कुमार
143
पिछली दीपावली नागपुर में बीती। दीपावली के बाद हाथ में दो दिन थे तो लगा क्यूँ ना आस पास के राष्ट्रीय उद्यानों में से किसी एक की सैर कर ली जाए। ताडोबा और पेंच ऍसे दो राष्ट्रीय उद्यान हैं जो नागपुर से दो से तीन घंटे की दूरी पर हैं। अगर नागपुर से दक्षिण की ओर निकलिए तो...
अनीता सैनी
19
उन  पथरायी-सी आँखों  पर, तुम प्रभात-सी मुस्कुरायी,  मायूसी में डूबा था जीवन मेरा तुम बसंत बहार-सी बन आँगन में उतर आयी,  तलाश रहे थे ख़ुशियाँ जहां में,  मेहर बन हमारे दामन में तुम खिलखिलायी |चमन में मेरे सितारों-सी चह...