ब्लॉगसेतु

अनंत विजय
54
हिंदी कथा परिदृश्य की अगर बात करें तो हम पाते हैं कि पिछले कुछ सालों में इसने अपने भूगोल का विस्तार किया है। वामपंथी विचार के प्रभाव में खास तरह की कहानियां या उपन्यास लिखे जा रहे थे। ये दौर बहुत लंबे समय तक चला और एक खास तरह की फॉर्मूलाबद्ध कहानियां और उपन्यास लिख...
यूसुफ  किरमानी
196
हथियार बेचने आ रहे हिरोशिमा के क़ातिलों की संतान के स्वागत में वो कौन लाखों लोग अहमदाबाद की सड़कों पर होंगे ?दीवार के इस पार या उस पार वालेनरोदा पाटिया वाले या गुलबर्गा वाले।डिटेंशन कैंप सरीखी बस्तियों वालेया खास तरह के कपड़े पहनने वाले।।वो जो भी होंगे पर किसान तो...
Bhavana Lalwani
361
"ऐ मन्नू, मुझे देर हो जाएगी,  तू ये पैकेट रख।  मुझे शाम को दे देना। "" क्या है इसमें ? चूड़ियां !!!  ये औरतों की चीज़ें मैं कहाँ रखूं ? तू ले जा। ""मुझे देर हो रही ऑफिस के लिए , वहाँ ड्यूटी पर कहाँ रखूंगी।  तू रख, शाम को बस स्टैंड पर पकड़ा देना।&nb...
ज्योति  देहलीवाल
29
14 फरवरी, साल का सबसे रोमांटिक और प्यारा दिन। इस दिन का हर प्यार करनेवाले को बेसब्री से इंतजार रहता हैं। वास्तव में, वैलेंटाइन डे का असली मतलब है, यूरोप की ‘लीव इन रीलेशनशिप’ का विरोध और भारत की ‘शादी’ जैसी पवित्र संस्था का समर्थन!! लेकिन आज वैलेंटाइन डे की वास्तवि...
यूसुफ  किरमानी
196
यूसुफ  किरमानी
196
शाहीन बाग में कहानी के किरदारों की तलाशकोई लेखक-लेखिका जब किसी जन आंदोलन में अपनी कहानियों और उपन्यासों के किरदारों को तलाशने पहुंच जाए तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि शाहीन बाग का आंदोलन कहां से कहां तक पहुंच गया है।हिंदी की मशहूर उपन्यासकार औऱ कहानी लेखिका नासिरा श...
sanjiv verma salil
6
मुक्तिका*बाग़ क्यारी फूल है हिंदी ग़ज़लया कहें जड़-मूल है हिंदी ग़ज़ल.बात कहती है सलीके से सदा-नहीं देती तूल है हिंदी ग़ज़ल.आँख में सुरमे सरीखी यह सजीदुश्मनों को शूल है हिंदी ग़ज़ल.जो सुधरकर खुद पहुँचती लक्ष्य परसबसे पहले भूल है हिंदी ग़ज़ल.दबाता जब जमाना तो उड़ जमेकलश पर वह धू...
 पोस्ट लेवल : मुक्तिका हिंदी ग़ज़ल
jaikrishnarai tushar
813
डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्त कार्यकारी अध्यक्ष उ०प्र०हिन्दी संस्थान ,लखनऊ सबसे दायें माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथसबसे बाएं श्री शिशिर सिंह निदेशक हिंदी संस्थान सबसे मध्य में डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्त जी साहित्य मनीषी डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्...
sanjiv verma salil
6
हिंदी आरती*भारती भाषा प्यारी की।आरती हिन्दी न्यारी की।।*वर्ण हिंदी के अति सोहें,शब्द मानव मन को मोहें।काव्य रचना सुडौल सुन्दरवाक्य लेते सबका मन हर।छंद-सुमनों की क्यारी कीआरती हिंदी न्यारी की।।*रखे ग्यारह-तेरह दोहा,सुमात्रा-लय ने मन मोहा।न भूलें गति-यति बंधन को-न छो...
 पोस्ट लेवल : हिंदी आरती
jaikrishnarai tushar
182
डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्त कार्यकारी अध्यक्ष उ०प्र०हिन्दी संस्थान ,लखनऊ सबसे दायें माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ सबसे बाएं श्री शिशिर सिंह निदेशक हिंदी संस्थान सबसे मध्य में डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्त जी डॉ ० सदानन्दप्रसाद गुप्त बिहार से अल...