ब्लॉगसेतु

Yash Rawat
617
Ayurvedic Khana Khazanaहमारे मौजूदा व्‍यस्‍त और भाग-दौड़ वाले समय में, आध्‍या‍त्मिक, सेहतमंद और सुखी जीवन की पहले से कहीं ज्‍यादा जरुरत है। पीड़ा, बीमारी और पर्यावरण के विनाश के अलावा जेनेटिक इंजीनियरिंग में विकास ने, मानवता और पृथ्‍वी को गंभीर स्थिति तक पहुंचा दिया...
Yash Rawat
617
योग का आठवां अंग ध्यान अति महत्वपूर्ण हैं। एक मात्र ध्यान ही ऐसा तत्व है कि उसे साधने से सभी स्वत: ही सधने लगते हैं, लेकिन योग के अन्य अंगों पर यह नियम लागू नहीं होता। ध्यान दो दुनिया के बीच खड़े होने की स्थिति है।ध्यान की परिभाषा: तत्र प्रत्ययैकतानता ध्यानम।।...
pintu sharma
144
क्‍या आप ने इस चैनल को Subscribe किया है नही किया है तो यहां किल्‍क करे (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); नमस्‍कार दोस्‍तो आज मै आप को बागी -२ फिल्‍म को डाउनलोड करनें का लिंक दुगां जो...
 पोस्ट लेवल : हिन्‍दी फिल्‍म
Yash Rawat
617
Picture courtesy : http://www.chrisrubino.com/कल्पनाओं, परिकल्पनाओं और विज्ञान ने मानव जाति के क्रमिक विकास में अभूतपूर्व योगदान दिया है जिसके कारण हम आज इस आधुनिक दुनिया में जी रहे हैं, लेकिन क्‍या आपने कभी कल्पना की है कि 100 करोड़ साल बाद मानव जीवन कैसा होगा।जैसा...
Yash Rawat
617
दिल में एक अजीब सी कश-म-कश और घुटन सी रहती हैमन में भी अशांत समंदर सी लहरे उठती रहती हैंदिन में सो नहीं सकता और रात को बेचैनी सोने न देतीआंखें बंद करता हूं तो एक अजीब सी उधेड़बुन शुरु होती हैदिल जोरों से धड़कता जाता है और हथेलियों पर चुभन सी होती हैआंखें खोलता हूं तो...
pintu sharma
144
 http://destyy.com/whDQeQhttp://destyy.com/whDQKF
Yash Rawat
617
आने वाले कल की सोचें और कल को सफल बनायेंसृष्ठि की रचना से लेकर कलियुग के आरंभ तक भारत ने दुनिया को अनगिनित आविष्‍कारों, ज्ञान के भंडार, आयुर्वेद, योग जैसे तोहफे दिए  मगर 19वीं सदी के बाद से हमने पृथ्‍वी का दोहन ही किया है लौटाया कुछ नहीं वैसे हम लौटाना जानते ह...
Yash Rawat
617
क्‍या होता अगर जो पूरी दिल्‍ली लुटियन जोन होतीहर तरफ चौड़ी-चौड़ी पेड़ों से ढकी सड़कें होती,सब तरफ हरियाली ही हरियाली होतीना तो माचिस के डिबियों जैसे मकान होते हर तरफ खुली-खुली जगह होतीना यूं उबलते उफनते गटर ही होतेन इतनी संकरी बदबूदार गलियां होतीक्‍या होता अगर जो पूरी...
Yash Rawat
617
साभार: ask.naij.comशांति का नोबेल पुरुष्‍कार विजेता मलाला युसुफजई ने कहा है: "एक बच्‍चा, एक शिक्ष्‍ाक, एक पुस्‍तक और एक कलम दुनिया को बदल सकती है"अगर हम भारत में साक्षरता दर की बात करें तो 2011 की जनगणना के हिसाब से 7 से 14 साल उम्र वर्ग के लड़कों की साक्षरता द...
Yash Rawat
617
यूं तो उत्‍तराखंड की शान बढ़ाने वाले कई नाम हैं जैसे रामी बौराणी, तीलू रौतेली, माधो सिंह भंडारी, गोबिन्‍द बल्‍लभपंत, हेमती नंदन बहुगुणा, स्‍वतंत्रता सेनानी गुणानंद पाठिक, श्रीदेव सुमन, विक्‍टोरिया क्रॉस गबर सिंह, माउन्‍ट एवरेस्‍ट पर चढ़ने वाली पहली भारतीय महिला बछेन्...