ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
फाग-नवगीतसंजीव.राधे! आओ, कान्हा टेरेंलगा रहे पग-फेरे,राधे! आओ कान्हा टेरें.मंद-मंद मुस्कायें सखियाँमंद-मंद मुस्कायेंमंद-मंद मुस्कायें,राधे बाँकें नैन तरेरें.गूझा खांय, दिखायें ठेंगा,गूझा खांय दिखायेंगूझा खांय दिखायें,सब मिल रास रचायें घेरें.विजया घोल पिलायें छिप-छि...
 पोस्ट लेवल : नवगीत होली फाग
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला:शब्द-शब्द अनुभूतियाँ, अक्षर-अक्षर भाव.नाद, थाप, सुर, ताल से, मिटते सकल अभाव..*सलिल साधना स्नेह की, सच्ची पूजा जान.प्रति पल कर निष्काम तू, जीवन हो रस-खान..*उसको ही रस-निधि मिले, जो होता रस-लीन.पान न रस का अन्य को, करने दे रस-हीन..*दोहा पिचकारी लियेसंजीव '...
 पोस्ट लेवल : दोहा सलिला लय रस होली
sanjiv verma salil
6
त्रिभंगी छंद:संजीव 'सलिल'*ऋतु फागुन आये, मस्ती लाये, हर मन भाये, यह मौसम।अमुआ बौराये, महुआ भाये, टेसू गाये, को मो सम।।होलिका जलायें, फागें गायें, विधि-हर शारद-रमा मगन-बौरा सँग गौरा, भूँजें होरा, डमरू बाजे, डिम डिम डम।।२१.३.२०१३ *http://divyanarmada.blogspot.in...
sanjiv verma salil
6
मुक्तिका:                                          &nbs...
 पोस्ट लेवल : मुक्तिका होली
3
मुखपृष्ठसाहित्यकारों की वेबपत्रिकावर्ष: 4, अंक 81, मार्च(द्वितीय), 2020देख तमाशा होली काडॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"मस्त फुहारें लेकर आया,मौसम हँसी-ठिठोली का।देख तमाशा होली का।।उड़ रहे पीले-हरे गुलाल,हुआ है धरती-अम्बर लाल,भरे गुझिया-मठरी के थाल,चमकते रंग-बिरंगे गाल...
161
विषय - होलीविधा - चौपाई छन्दछुप छुप करके मोहन आएजल भर गगरी वह छलकाएबढ़चढ़ ग्वाले हिस्सा लीनी गोपी को भी वो रंग दीनीसखियाँ लाई सुंदर मालागले राधिका के है डालाबरसाने की सब नर नारीरंगभरी लाए पिचकारीनटखट राधा पनघट आईपायलिया छम छम छमकाईमुड़ मुड़ कर के श्याम निहारेप...
संतोष त्रिवेदी
146
होली से ठीक पहले शहर में शांति स्थापित हो गई।इसमें दंगों की ख़ास भूमिका रही।अगर ये बड़े पैमाने पर न हुए होते तो शहर में शांति स्थापित करने में व्यावहारिक दिक्कतें आतीं।अब सारा माहौल अमन और भाईचारे की चपेट में है।घर भले ही खंडहर में तब्दील हो गए हों,चैनलों में दिन-र...
जेन्नी  शबनम
98
रंगीली होली (होली पर 9 हाइकु)*******1.  होली की टोली  बैर-भाव बिसरे  रंगीली होली।  2.  रंगों की मस्ती  चेहरे भोली भाली  रंग हँसते।  3.  रंगों की वर्षा  खिले जाव...
 पोस्ट लेवल : हाइकु होली
Kajal Kumar
7
 पोस्ट लेवल : Holi होली
3
--खुशियों की सौगात लिए होली आई है।रंगों की बरसात लिए, होली आई है।।--रंग-बिरंगी पिचकारी ले,बच्चे होली खेल रहे हैं।मम्मी-पापा दोनों मिल कर,मठरी-गुझिया बेल रहे हैं।पकवानों का थाल लिए, होली आई है।रंगों की बरसात लिए, होली आई है।।--जाड़ा भागा, गरमी आई,होली यह सन्...