वह शहर जो पीछे छूट गया हैवह गाँव जो उदास हैवे घर जिनमें बंद पड़े हैं तालेजहाँ कुंडली मारे बैठा है अँधेरावहाँ ठहर जानाअपने घोड़ों को कहनावे वहाँ रुके रहें थोड़ी देरछठ पर्व पर अपनी सामर्थ्य के अनुसार लोग प्रसाद की व्यवस्था करते हैं।सात, ग्यारह, इक्कीस व इक्यावन प्रका...
 पोस्ट लेवल : 1569