सादर अभिवादनमंगल का दिनसच में बड़ा शुभ दिनचुप रहना ही उचित हैचलिए चलें रचनाओं की तरफ...ईश्वर का वास ..एक सन्यासी घूमते-फिरते एक दुकान पर आये, दुकान मे अनेक छोटे-बड़े डिब्बे थे, सन्यासी के मन में जिज्ञासा उतपन्न हुई,  एक डिब्बे की ओर इशारा करते हुए सन्यासी ने दु...
 पोस्ट लेवल : 1572