स्नेहिल नमस्कार-–---–क़लम की नोंक रगड़ने से स्याही लीपने-पोतने सेबड़े वक्तव्यों सेआक्रोश,उत्तेजना,अफ़सोस या संवेदना की भाव-भंगिमा सेनहीं बदला जा सकता है किसी का जीवन,समाज की विचारधारादेश की दुर्दशापर घर बना लेती हैंं मन की तह मेंव्यवहार की...
 पोस्ट लेवल : 1575