ब्लॉगसेतु

kuldeep thakur
2
जय मां हाटेशवरी......नागरिकता संशोधन  बिल संसद से पास होने पर इतनी हाय-हाय क्यों?.....क्या ये सत्य नहीं कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश मे  अल्पसंख्यक हिन्दू, सिक्ख, बौद्ध, जैन प्रताड़ना झेल रहे हैं......ऐसे लोगों को भारत की नागरिकता  की राह...
 पोस्ट लेवल : 1619
kuldeep thakur
2
यथायोग्य सभीकोप्रणामाशीषहाँपड़ोसी से उधारी लेंगे.. पड़ोसी के सुख से जलनेवाले25 दिसम्बर को तुलसी पूजन का बहानाकुछ यूँ ही लगताबिखरो न यूँवस्तुतः, है अन्त ही, इक नया आरंभ,पथ, अनन्त चुनो तुम!राहें, बदल जाते हैं, मोड़ में,हर छोड़ में, खुद से मिलो तुम!कह के जो कभीभाषा जो क...
 पोस्ट लेवल : 1618
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादन। मत जलाओ सरकारी या निजी सम्पत्तियाँ,सह जाओ वक़्त की मार न दो बद्दुआ खिलने दो फूल-पत्तियाँ। -रवीन्द्र आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें- मुझे न्याय चाहिए......आशालता सक्सेना मुझे भी...
 पोस्ट लेवल : 1616
kuldeep thakur
2
।। भोर वंंदन ।।वर्तमान परिपेक्ष्य को चरितार्थ करतें चंद शेर..यहाँ पर नफ़रतों ने कैसे कैसे गुल खिलाये हैंलुटी अस्मत बता देगी दुपट्टा बोल सकता हैबहुत सी कुर्सियाँ इस मुल्क में लाशों पे रखी हैंये वो सच है जिसे झूठे से झूठा बोल सकता हैसियासत की कसौटी पर परखिये मत वफ़ाद...
 पोस्ट लेवल : 1615
kuldeep thakur
2
सादर नमस्कार..गीत मेरी अनुभूतियाँनाम अनजाना नहीं हैऔर ब्लॉग बंद भी नही हैपर धीमा ज़रूर हैसंगीता स्वरूप दीदीकम ही लिखती हैज्यादातर पढ़ती हैंऔर समीक्षाएँ भी लिखती हैयहाँ पढ़िए मेरी पसंदीदा रचनाएँ..मोह से निर्मोह की ओरमोह  से  ही तो उपजता  है&...
 पोस्ट लेवल : 1614
kuldeep thakur
2
सोमवारीय विशेषांक मेंआप सभी कास्नेहिल अभिवादन------अलाव हमक़दम का पहला विषय था-चलिये कुछ स्मृतियों को ताज़ा करते हैं कुछ नयी संजोते हैं-अलावसर्दी के मौसम में तापने के लिए किसी स्थान विशेष पर जलाई गयी आग। परंपरागत रूप से हम अलाव को ग्रामीण जीवन का अंग मानते...
 पोस्ट लेवल : 1613
kuldeep thakur
2
हिमाचल प्रदेश में आजकल ख़ूब बर्फ़बारी हो रही है। प्रकृति के नयनाभिराम सौंदर्य को नज़रों में भरने के लिये भारत का प्राकृतिक सुषमा से आच्छादित प्रदेश सैलानियों को पुकार रहा है। शीत ऋतु में पर्यटन के शौक़ीन मिजाज़ हिमाचल प्रदेश की पर्यटन यात्रा पर निकल पड़ते हैं।&...
 पोस्ट लेवल : 1612
kuldeep thakur
2
सभी को यथायोग्यप्रणामाशीष13 दिसम्बर 2019 को यहाँ पहुँची हूँदिन-रात का फर्क है कुछ ज्यादा हीजहाँ से आई हूँ और अभी जहाँ हूँकोई फर्क नहीं पड़ताकोई फर्क नहीं पड़ताकोई फर्क नहीं पड़ताइस देश में राजा हिन्दू हो या मुसमान,जनता तो बेचारी लाश है,हिन्दू राजा हुआ तो , जला द...
 पोस्ट लेवल : 1611
Yashoda Agrawal
21
सादर अभिनन्दनभारत के भू राजनीतिक एकीकरण के सूत्रधार ‘लौहपुरुष’ सरदार वल्लभभाई पटेल की आज 144 वीं जयंती है। सादर नमनआज से भारत के नक्शे मे एक बड़ा बदलाव आया हैआज से भीरत में दो केन्द्रशासित प्रदेश बढ़ गए हैंजम्मू-काश्मीर और लद्दाख...और तो और आज हीभारत...
 पोस्ट लेवल : 161
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादन। भारत में सरकारी कामकाज का ढंग कुछ ऐसा है कि सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का दम निकल जाता हैहमारी कार्य संस्कृति का अक्सर जुलूस निकल जाता है। आइये अब आपको  पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें - इबादत ..डॉक्टर इन्दिरा...
 पोस्ट लेवल : 1161