ब्लॉगसेतु

kuldeep thakur
2
नववर्ष की मंगलकामनाएँसखी पम्मी आज बाहर हैंसो आज यहां हम हैंकल भी हम ही थेआज भी हैंऔर शायदकल भी रहेंगेंये 2020 है नशनि उन्नीस साल बादअपने घर वापस लौट रहा है...खैर..हमें क्या..आज की शुरुआत इन पंक्तियों के साथबनके दुआ वो लिपट-लिपट जाती है, जब-जब मेरे आंचल सेमैं जब उर्...
 पोस्ट लेवल : 1629
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादनवर्ष का अंतिम दिनइस बिदाई की बेला मेंसब नाच-कूद रहे हैंरो रहा है तो बसएक ही ...वहसफेद दाढ़ी वाला बूढ़ा2019चलिए चले रचनाओं की ओर...नव-वर्ष अनंत, नव-वर्ष कथा अनंता... गगन शर्माआने वाले साल के 366 दिन सब के लिए सुख-शांति और निरोगिता ले कर आएं। सभी को आने व...
 पोस्ट लेवल : 1628
kuldeep thakur
2
इस वर्ष के अंतिम सोमवारीय विशेषांक हमक़दम के अंक मेंआप सभी प्रबुद्ध रचनाकारों एवं प्रिय पाठकवृंद कास्नेहिल अभिवादन----'औकात' शब्द एक नुकीले तीर की तरह मन को बेध जाता है। शब्द में निहित भाव किसी भी व्यक्ति को व्यथित करने में सक्षम है।'औकात' शब्द प्रायः किसी...
 पोस्ट लेवल : 1627 औकात
kuldeep thakur
2
जय मां हाटेशवरी.....नव-वर्ष हमसे केवल 2 दिन दूर है.....नव वर्ष में हर कोई अपने सपनों व आकांक्षाओं को पूरा होता देखना चाहता है.....हम भी यही कामना करते हैं कि......आप सभी पाठकों की नव वर्ष में हर इच्छा पूरी हो.....आने वाले वर्ष में भी,अब न और कुछ ख़्वाहिश है,बस आप ह...
 पोस्ट लेवल : 1626
kuldeep thakur
2
यथायोग्य सभी कोप्रणामाशीषखाने/भोजन में तुलसी पत्ता डालकर रखना...रविवार-मंगलवार को तुलसी पत्ता नहीं तोड़ना...अंधविश्वास और वैज्ञानिक पलड़े पर तुलतारिंग ऑफ़ फायररिंग ऑफ़ फायररिंग ऑफ़ फायरतुकबंदीधाकड़ बातें><पुन: मिलेंगे><सन 2019 का अंतिम विषय101 वाँ विषयऔकातउदा...
 पोस्ट लेवल : 1625
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादन। फ़ज़ाओं में दहशत की बू हो और आप प्यार की बातें करेंगे?असीम वेदना से कराह उठी है मानवता और आप साज़िश मक्कारी हेतु मुलाक़ातें करेंगे ?-रवीन्द्र सिंह यादव  आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-...
 पोस्ट लेवल : 1623
kuldeep thakur
2
।।प्रातः वदंन।।"कौरव कौनकौन पांडव,टेढ़ा सवाल है|दोनों ओर शकुनिका फैलाकूटजाल है|धर्मराज ने छोड़ी नहींजुए की लत है|हर पंचायत मेंपांचालीअपमानित है|बिना कृष्ण केआजमहाभारत होना है,कोई राजा बने,रंक को तो रोना है.."अटल बिहारी वाजपेयीपौष भोर की शीतलता और सृजनता की जगमगाहट...
 पोस्ट लेवल : 1622
kuldeep thakur
2
मंगलवारीय अंक मेंआप सभी का स्नेहिल अभिवादन------समाज में होने वाले तकनीकी परिवर्तन केवल व्यवहार और आदतें बदलते तो और बात थी. वो परिवर्तन मनुष्य के भीतर बैठकर उसे भीतर से बदलते हैं और इन परिवर्तनों को यदि कोई सजग होकर अनुभूत कर रहा होता है तो वह कोई वैज्ञानिक या टेक...
 पोस्ट लेवल : 1621
kuldeep thakur
2
सोमवारीय विशेषांक में आप सभी कास्नेहिल अभिवादन.................आज हमक़दम का 100वाँ अंक है।आप सभी के अमूल्य सहयोग सेआज का यह शुभ दिवस अपनी आभा बिखेर.रहा रहा है।सभी माननीय पाठकोंं एवं प्रबुद्ध रचनाकारों कोपाँच लिंंक परिवार का आत्मीय आभार।आशा है आगे भी आप का यह बेशकीमत...
 पोस्ट लेवल : 1620
Yashoda Agrawal
21
सादर अभिवादनमाह नवम्बर का पहला दिनक्या कुछ यादगार कर लियाअक्टूबर ने...हाँ दो नए राज्य दिए हैंशुभकामनाएँ..अब नवम्बर से भी बहुत उम्मीदें है..चलें आज की रचनाओं की ओर...मुक्ति ...विभा रानी श्रीवास्तव 'दंतमुक्ता' यूँ तो भाईदूज के दिन बिहार के मिथिला में भी रंगोली ब...
 पोस्ट लेवल : 162