ब्लॉगसेतु

Yashoda Agrawal
8
सादर नमस्कारआज बुध की शामहिन्दी माह की दसवीं तारीखकल तुलसी-विवाह होगाफिर.....बैण्ड-बाजा और बारातले जाएँगे ले जाएँगे..पर..किसे..जब बेटी होगी तब नगूढ़ प्रश्न..ढूंढते रहिए जवाबऔर लिंक की ओर चलिए...खकिया-कलुआ भाई-भाईबाप रे!सहनशीलता चरम सीमा पर है,सभी सह रहे हैं, एक दूज...
 पोस्ट लेवल : 167
kuldeep thakur
2
।।शुभ भोर वंदन।।स्वर्ण ,सुख,श्री सौरभ में भोरविश्व को देती है जब बोर,विहग कुल की कल -कंठ हिलोरमिला देती भू नभ के छोर;न जाने,अलस पलक-दल कौनखोल देता तब मेरा मौन!सुमित्रानंदन पंतइसी मुखर मौन निमंत्रण के आगाज से आज की सुबह चाय के साथ -साथ इन लिंकों पर भी नजर डाले....
 पोस्ट लेवल : 1167
kuldeep thakur
2
आप सभी को नव वर्ष की शुभ कामनाएँचलते हैं रचनाओं की कड़ियो की ओर..आहुति मेंजो तुम भी कह ना पाये,वो मेरी हथेलियों पर रची,मेहंदी ने कह दिया है...पिया तुमसे बहुत प्यार करते है.मेहंदी का रंग देख कर,मेरी सहेलियों ने मुझसे कह दिया है..सुधिनामा मेंईंट गारे चूने से बना यह भ...
 पोस्ट लेवल : 167
ऋता शेखर 'मधु'
121
यह हरिगीतिका समर्पित है उन वीर जवानों और उनकी परिणीताओं को जो देश की रक्षा के लिए विरह वेदना में तपते हैं...दिल में बसा के प्रेम तेरा, हर घड़ी वह रह तके|लाली अरुण या अस्त की हो, नैन उसके नहिं थके||जब देश की सीमा पुकारे, दूर हो सरहद कहीं|इतना समझ लो प्यार उसका, राह...