ब्लॉगसेतु

समीर लाल
292
Ingredient:Poha (Beated Rice) – 2 CupYogurt – 3 SpoonBesan (Gram Flour) – 2 SpoonTurmeric Powder – 1 /2 Tea SpoonKasoori Methi (Fenugreek Leaves) – 1 /2 SpoonRed Chili flakes – 1 /2 SpoonCoriander Powder – 1 /2 SpoonCumin Powder – 1 /2 SpoonSalt – 1 /2 SpoonSugar –...
Asha News
87
झाबुआ। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा संचालित वन स्टाॅप सेंटर झाबुआ में हिंसा से पीड़ित महिला एवं बालिका को परामर्श, कांउसलिंग के लिये मनोवैज्ञानिक परामर्श, सामाजिक परामर्श, विशेष शिक्षक, विधिक सहायता की आवश्यकता है। परामर्श तथा कांउसलिंग के लिये इच्छुक व्यक्...
Bharat Tiwari
18
Hindi Story 'Shatranj ke Khiladi' — Munshi Premchandमुंशी प्रेमचंद की हिन्दी कहानीशतरंज के खिलाड़ीवाज़िदअली शाह का समय था। लखनऊ विलासिता के रंग में डूबा हुआ था। छोटे-बड़े, गरीब-अमीर— सभी विलासिता में डूबे हुए थे। कोई नृत्य और गान की मज़लिस सजाता था, तो कोई अफीम की...
अमितेश कुमार
178
कोरोना वायरस से उपजे संकट के समय को साहित्य और संस्कृति के क्षेत्र में सोशल मीडिया लाइव के दौर के रूप में भी चिह्नित किया जा सकता है. हिंदी रंगमंच की दुनिया में भी इन दिनों लाइव का सिलसिला चल रहा है. संस्थानों और व्यक्तिगत प्लेटफॉर्म पर रंगकर्मी लाइव के जरिए अपनी...
rashmi prabha
97
मैं माँ,समय की तपती रेत नेमुझमें पिता के अग्निकण डालेमातृत्व की कोमलता के आगेमैं हुई नारियलबच्चे की कटी उंगलियों को सहलायाभयभीत चेहरे कोसीने की ताप से सहलायाऔर लक्ष्य की ओर बढ़ने को कहा(बिल्कुल अपने पिता की तरह)क्योंकि दुनिया चर्चा करती हैसूरज के उगने और चढ़ने कीसाथ...
Harsh Wardhan  Jog
35
बैंक का पब्लिक डीलिंग का समय समाप्त हो गया था और गेट बंद हो चुका था. इसलिए बैंकिंग हाल में हलचल घट गई थी. ऐसे में कपूर साब इधर उधर नज़र घुमा रहे थे. - कपूर साब किसे ढूंढ रहे हैं जी?- बच्चे अज स्वेर तों किसी कुड़ी नाल गल नई कित्ती, कह कर कपूर साब मिसेज़ सहगल के पा...
 पोस्ट लेवल : चलते चलाते
MyLetter .In
143
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); प्रिय,हमें प्यार से प्यार करना चाहिए और प्यार से ही उस प्यार को प्राप्त करना चाहिए। यदि हमें पसंद आ गया तो हमें प्यार मिलना ही चाहिए, ऐसी चाहत बेवकूफी नहीं तो और क्या है? अगर हमारे मन को दर्द होता है तो कोई ब...
Yashoda Agrawal
3
सब की बोलती बंद है इन दिनों,वक़्त बोल रहा है ..बड़ी ही ख़ामोशी सेकोई बहस नहीं,ना ही कोई,सुनवाई होती हैएक इशारा होता हैऔर पूरी क़ायनात उस परअमल करती है!!!…सब तैयार हैं कमर कसकर,बादल, बिजली, बरखाके साथ कुछ ऐसे वायरस भीजिनका इलाज़,सिर्फ़ सतर्कता हैजाने किस घड़ीकरादे, वक़्त ये...
MyLetter .In
143
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - राजेश बन्छोरप्रिय पूजा,बहुत कुछ कहना है और कह पाना मुश्किल सा है. शायद यही कारण है कि अभिव्यक्ति के लिए कागज-कलम से बेहतर साधन नहीं खोज पाया. यह मेरा पहला और अंतिम पत्र है. इस पत्र को कागज का मामूली टुकड़ा म...
4
--आये थे हरि भजन को, ओटन लगे कपास। कैसे जीवन में उगे, हास और परिहास।।--बन्धन आवागमन का, नियम बना है खास। अमर हुआ कोई नहीं, बता रहा इतिहास।।--निर्बल का मत कीजिए, कभी कहीं उपहास। आँधी में तूफान में, जीवित रहती घास।।--...
 पोस्ट लेवल : दोहे जीवित रहती घास