ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
10
विजय राजबली माथुर
102
कुमुद सिंह · 30-06-2020मनमोहन की गद्दारी देश 100 साल बाद समझेगानेहरू ने जैसे जमींनदारी हस्तानांतरण कर रैयतों को मूर्ख बनाया, वैसे ही मनमोहन ने उपभोक्ता को गदहा बनाया है। नेहरू की बात छोडिये, वो मरे उनकी नीति मरी और वो समाज भी मर चुका है। बात करते हैं मनमो...
Sumit Pratap Singh
311
जब भी मैं जिंदगी से बेहद उदास हो जाता हूँतब मेरे दिमाग में ये ख्याल आता है किक्यों न खत्म कर लूँ खुद को और चला जाऊं इस दुनिया से बहुत दूरये सोचते-सोचते मुझेरास्ते में मिल जाता हैमंदिर पर भीख माँगने वाला दुर्घटना में अपनी दोनों टाँगें ग...
विजय राजबली माथुर
79
स्पष्ट रूप से पढ़ने के लिए इमेज पर डबल क्लिक करें (आप उसके बाद भी एक बार और क्लिक द्वारा ज़ूम करके पढ़ सकते हैं ) भाजपा नेता यह पत्रकार कांग्रेस पर जो आरोप लगा रहे हैं उनका जवाब तो कांग्रेस खुद दे या न दे लेकिन जब वह दोनों कम्युनिस्ट पार्टियों का जिक्र करते है...
सुशील बाकलीवाल
329
         हम सभी देशवासी बधाई के पात्र हैं कि  हमने 23 मार्च 2020  से आज तक लगभग  तीन  महीने से भी अधिक समय बिना किसी सहायता के पूरे जी लिये हैं और इसी अवधि में यथासंभव जरुरतमंदों की मदद की इंसानियत भी सीख ली ।  &nbs...
 पोस्ट लेवल : सावधानी सुरक्षा बचाव
हर्षवर्धन त्रिपाठी
92
संयुक्त राष्ट्र संघ की मानवाधिकार समिति दिल्ली दंगों की साजिश के आरोपियों को छोड़ने का दबाव बना रही है। यूएनएचआरसी की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि दिल्ली पुलिस ने छात्रों और नागरिक समाज के लोगों को नागरिकता कानून का विरोध करने की वजह से गिरफ्तार किया है और यह...
ज्योति  देहलीवाल
19
दोस्तों, मठरी कई तरह की बनाई जाती हैं। इसके पहले मैं ने आलू की खस्ता और चटपटी मठरी एवंं मसाला मठरी की रेसिपी शेयर की थी। नीले रंंग पर क्लिक करके आप संबंधित रेसिपी पढ़ सकते हैं। सामान्यत: लच्छेदार मठरी में ज्यादा मोयन लगता हैं। लेकिन यदि आप इस तरह से लच्छे...
MyLetter .In
143
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); - राजेश बन्छोरप्रिय राज,मुझे खुद को नहीं मालूम कि मैं कैसी लड़की हूं. मैं आपके दोस्ती के काबिल नहीं, फिर भी आप मुझे अपना दोस्त समझते हैं, यह सोचकर ही मुझे बहुत गर्व महसूस होता है. मुझे मालूम है कि आप कभी...
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र
Yashoda Agrawal
3
पानी सी होती हैं स्त्रियाँहर खाली स्थान बड़ी सरलता सेअपने वजूद से भर देती हैंबगैर किसी आडंबर केबगैर किसी अतिरंजना के..आश्चर्य येकि जिस रंग का अभाव हो उसी रंग में रंग जाती हैं ..जाड़े में धूप ..उमस में चांदनी ..आँसुओं में बादल..उदासी में धनक..छोटी बहन को एक भाई क...
MyLetter .In
143
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); -आयशा मुखर्जीडियर राहुल,जब से तुम मेरी ज़िन्दगी में आये हो मेरी life काफी interesting हो गयी है. तुमने अब तक हर बुरी या अच्छी परिस्थितियों में मेरा साथ दिया और सबसे पहले मैं इसके लिए तुम्हारा Thanks करती हूँ....
 पोस्ट लेवल : दिल की बात प्रेम पत्र