ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
19
मार्क्सवाद का अर्धसत्य के बहाने एकालाप— पंकज शर्माअनंत ने पूरी दुनियाभर के जनसंघर्षों को एक नया आयाम प्रदान करने वाले महानायक के निजी जीवन संदर्भों के हवाले से उन्हें खलनायक घोषित कर दिया और भारतीय सामाजिक परंपरा के परिप्रेक्ष्य में उनका मूल्यांकन करने के फिराक में...
Bharat Tiwari
19
लेखन सोच से उपजता है। किसी की सोच, किस तरह के विचार, अनुभव से गुजरती है, और किस तरह कोई उन विचारों, अनुभवों को शब्द दे पाता है, वही उसकी लेखन-कला होती है। लेखन कला है —  यानी उत्थान या पतन, लेखक (कलाकार) द्वारा, उसकी सोच के निरंतर परिष्करण किये जाने, या नहीं क...
Bharat Tiwari
19
साहित्य का 'समीकरण काल'Sahitya ka 'Samikaran Kal' - Anant Vijayअनंत विजय के इस लेख को पढ़ने से पहले एक नज़र उन प्रतिक्रियाओं पर डालते चलते हैं जो अनंत की फेसबुक वाल पर साहित्य से जुड़े लोगों ने दी हैं... जिस पर ख़ाकसार ने इतना ही कहा "वाह बड़े दिन बाद आपकी कलम ने काले क...
Bharat Tiwari
19
सलमान खान भले ही आदर्श स्थिति की बात करें और ये कहें कि पाकिस्तानी कलाकार आतंकवादी नहीं हैं लेकिन क्या पाकिस्तानी कलाकारों ने आतंकवादी हमलों की निंदा की है अगर भारत की जमीन से पैसा कमाने वाले कलाकार भारत के दुश्मनों के खिलाफ मुंह खोलने की हिम्मत नहीं रखते हैं...
Bharat Tiwari
19
तेरी कमीज़ मेरी कमीज़ से मैली कैसे ... हिंदी साहित्य में यही होड़ लगी हुई है, शब्दवीर साहित्य से इतर सब कुछ कर रहे हैं. एक किस्सा है — एक महिला ने ख़ुदा से दुआ मांगी "अल्लाह मुझे संतान देगा तो मैं मस्जिद में ढोल बजवाऊँगी". महिला को संतान हुई और वह मौलवी के पास अपनी अरज...
Bharat Tiwari
19
 खुद को स्थापित करने की होड़ — अनंत विजयलेख से लेकर कविता तक, उपन्यास से लेकर कहानी तक हर जगह और हर विधा में प्रशंसाकामी लेखक आपको घूमते टहलते मिल जाएंगें । अगर आपने तारीफ कर दी तो वो उस तारीफ को जोर-शोर से विज्ञापित भी करेंगे और तारीफ के वाक्य को सोशल मी...
Bharat Tiwari
19
सोशल नेटवर्किंग साइट पर- वहां इन दिनों कविता का स्वर्णकाल चल रहा है । किसिम किसिम की कविता लिखी और पोस्ट जा रही है और एक खास किस्म की कविता को लेकर बहुत हो हल्ला भी मच रहा है  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); कोलाहल कलह में कविता— अनंत विजयहि...
Bharat Tiwari
19
क्या आप हिंदी साहित्यजगत से किसी भी प्रकार से जुड़े हैं? यदि आप का जवाब हाँ है तो अनंत विजय का यह लेख आपके लिए ही है... और अगर नहीं जुड़े हैं तो साहित्यिक संसार के - फेसबुक पर नंगे हो चुके - जोकरों के बारे में आप इस मजेदार (मगर सच्चे) लेखन से जानकारी ले सकते हैं...
Bharat Tiwari
19
Hindi Upanyas aadi aur Uske Sanskaran — Anant Vijayजिस समय में आंकड़ों पर ही सब तय होता है वहीँ आज भी हिंदी में प्रकाशित साहित्यिक पुस्तकों के प्रकाशन और बिक्री दोनों के आंकड़े हरीसन ताले में बंद रखे जाते हैं... अब अगर आप के मन में यह सवाल उठता है कि ऐसा क्यों ह...