ब्लॉगसेतु

अपर्णा त्रिपाठी
173
जाडा इस बार अपने पूरे जोर पर था। पिछले तीन दिन से बारिश थी कि थमने का नाम ही न लेती थी। मगर गरीब के लिये क्या सर्दी क्या गरमी। काम न करे तो खाये क्या? बारिश में भीगने के कारण सर्दी बुधिया की हड्डियों तक जा घुसी थी। खांसती खखारती चूल्हे में रोटियां सेक रही थी, और का...
 पोस्ट लेवल : childhood poverty mother
अपर्णा त्रिपाठी
173
जीवन की आपाधापी मेंबरसों के आने जाने मेंबहुत कुछ बदलता है लेकिनजो नही बदलता, वो बचपन है बदल जाते है, रंग खुशी केबदल जाते है, संग सभी के  बदल जाते है, चेहरे मोहरेबदल जाते है, मन भी थोडेमौसम के आने जाने मेंजमानों के गुजर जाने मेंदिन रात बदलते है लेकिन जो नही बदल...
 पोस्ट लेवल : childhood memories
rishabh shukla
661
नमस्कार, स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर| "मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी| आज हम लेकर आये है अशोक बाबू माहौर जी की सुन्दर कविता "बचपन"| आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले स...
अपर्णा त्रिपाठी
173
जाने कब कैसे बदलेअपने, रिश्तेदारों मेंप्यार मोहब्बत बदल गयादेखो कैसे व्यवहारों मेंछोटी छोटी बातों परजिनसे कल तक लडते थेमार पीट झगडे करके भीसंग घूमते खाते खेलते थेजीवन चक्र कुछ यूं घूमाहम आ बैठे नातेदारों मेंप्यार मोहब्बत बदल गयादेखो कैसे व्यवहारों मेंझूठ मूठ के घर...
 पोस्ट लेवल : relation childhood
Yash Rawat
616
दिल में एक अजीब सी कश-म-कश और घुटन सी रहती हैमन में भी अशांत समंदर सी लहरे उठती रहती हैंदिन में सो नहीं सकता और रात को बेचैनी सोने न देतीआंखें बंद करता हूं तो एक अजीब सी उधेड़बुन शुरु होती हैदिल जोरों से धड़कता जाता है और हथेलियों पर चुभन सी होती हैआंखें खोलता हूं तो...
अपर्णा त्रिपाठी
173
किताबेंकहने को कुछ नही कहतीमगर सिखा जाती है जिन्दगीकिताबेंजो जाती थीकभी बस्ते मेंमेरे साथ मेरे स्कूलकिताबेंजिन्हे सजाते थे कभी बासी कागज सेकभी रंगीन मरकरी ब्रेड के कवर सेऔर कभी टाइम्स इंडिया के ग्लेस्ड पेपर सेकिताबेंजिनपर लगा करकोई सुन्दर सी नेमस्लिपऔर फि...
 पोस्ट लेवल : books and childhood
Yash Rawat
616
यह फोटो यूट्यूब से ली गयी हैभारतीय टीवी क्षेत्र में रियलिटी के नाम जो फूहड़ता परोसी जा रही है उससे आप भली भांति परिचित होंगे खासकर बच्‍चों के रियलिटी शोज में जो कुछ दिखाया जा रहा है वह बेहद शर्मनाक है। पिछले दिनों मैं बच्‍चों से संबंधित रियलिटी शो "सबसे बड़ा कलाकर" द...
अपर्णा त्रिपाठी
173
घर आंगन छोड के जाना, कब अच्छा लगता हैआँखों से आँसू छलकाना, कब अच्छा लगता हैरोटी की मजबूरी, अक्सर छुडवा देती अपना देशपराये देश में व्यापार फैलाना कब अच्छा लगता हैमाँ के हाथों की खाये बिना, बस पेट ही भरता हैऑडर देकर सीमित खाना, कब अच्छा लगता हैबेजान रंगी्न शहरों में,...
 पोस्ट लेवल : childhood
kalaa shree
734
"Wah Re Bchapan, Kaash Tum Laut Aao"yaad aataa hai wo bachpan,jab khushiyan kitni choti thi, baag me titli ko pakad hansnaa, taare todne jitnaa khush hote the, paani me khud ko hi bhigo kar, khud hi dar jaayaa karte the, wo dhukh bhi kitne pyaare the,...
 पोस्ट लेवल : Bchapan(childhood)
डा.राजेंद्र तेला निरंतर
11
Childhood fragranceThe sweet fragrance of The carefree world of ChildhoodRemains hiddenUntil one is a grown adultTied in innumerable Knots of desires and necessities When even a carefree Sound sleep looks distantOne is left withNo other choiceExcept drowning onesel...
 पोस्ट लेवल : fragrance Life memories Childhood