ब्लॉगसेतु

Devendra Gehlod
707
यह कविता मैंने करीब चार साल पहले 2011 में लिखी थी । यह उनकी timeline से लिया गया है देवेन्द्र गेहलोदकुछ दिनों से समाचार पत्रों में इंदौर में हुई घटनाओं को पढकर बड़ा अफ़सोस होता है जहा हर शहरवासी दूसरे पर आसानी से भरोसा कर सकता था हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल दी जाती थ...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
उस सुनी राह पे वो अकेला मौजूद हैभले वो इंसान नहीं लेकिन उसका भी वजूद हैफैली हुई है उसकी सब शाखेउसे सिर्फ ज़माने का भला करना मंज़ूर हैहोते है उसपे हमले तो हुआ करेउसे तो बस नेकी किये जाने का सुरूर है - देवेन्द्र देव Roman Us suni raah pe wo akela moujud haibhale wo ins...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
खवाबो में आते है, आखिर कुछ तो बात होगीजाते हुए भी मुड़ते जाते है, आखिर कुछ तो बात होगीये दिल ठिकाने पे नहीं, न जाने क्या वजह हैहर जगह टकराते है वो, आखिर कुछ तो बात होगीसोचकर के हैरां हूँ सारे सिलसिलो कोहर सिलसिले में एक कड़ी है, आखिर कुछ तो बात होगीमै उन्हें मुतास्सि...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
वो तेरी आँखे वो तेरा चेहरातेरी आँखों सा प्यार तेरा गहरा मेरे हर गुनाह को माफ कर देनाबना दिया मेरी शोहरत का पन्ना सुनहरामेरे जिस्म से छूकर तेरी खुशबु आयेतू दूर है तो मै हू प्यासा सहरा - देवेन्द्र देवwo teri aankhe wo tera chehrateri aankho sa pyar tera gahramere ha...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
एक आस जगी आज मन मेंदिल कि बात है दबी आज मन मेंकभी तो ये आग उगलेगाअपनी कमान ये खुद लेगाबहुत सह लिया हमने भीअब तो खून लगा है उबलने भीहर किसी के नाम पर खेल हैयह बस वोटो की रेलमपेल हैवो कुर्सी पर आये सब भूल गएवादे सारे पहली बारिश में धुल गएसुना है नया कोई कानून आएगातोड़...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
आँखों से अश्क छिपाते-छिपाते सारा दामन भीग गया |ऐसा लगा की अज मै कुछ हारकर भी सब जीत गया ||Purchase Shayari Books
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
हवा का झोका हू तुझे छुकर निकल जाऊँगादेर न लगी तेरे दिल में यु उतर जाऊंगानजरो के सामने रहूँगा हर पलनिगाहों में यु बसर कर जाऊंगामुझसा न मिलेगा कोई चाहने वालातू भले पत्थर हो मै मोम कर जाऊंगाजो कभी दूर भी हुआ तुझसेयाद करोगे हमें कुछ ऐसा असर कर जाऊंगा - देवेन्द्र 'देव'P...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
पत्थरो की लकीरों सी है मेरे हाथ की लकीरेउभर के मिट जाती है जज्बात की लकीरेकभी हाथ की लकीरों में तो कभी तुझमे खोजते है हाथ की लकीरेखुद मिट जाती है तो मिटा जाती है हालात की लकीरेशहमात का खेल खेलती है जिन्दगी में लकीरेफिर क्यों उभर आती है बिना बात की लकीरेPurchase Sha...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary
Devendra Gehlod
707
वो भले वादा करके मुकर जायेंगेपर हमें यकीं है, पुकारे तो ठहर जायेंगेहै भले आज लबो पे उनके नापर हमारे इश्क के कशीदे भी कभी असर लायेंगेभले फेर ले रुख अपना हमें देखकरपर एक दिन वो हमारे सायो से लिपटते नज़र आयेंगेलगता है हम ही है उनके इश्क में पागलपर एक दिन वो भी बैचैन नज़...
 पोस्ट लेवल : ghazal-poem Devendra-dev diary