ब्लॉगसेतु

Rajeev Upadhyay
338
केन्द्र और राज्य सरकारों ने कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए गरीब, मजदूरों और अन्य वंचित वर्गों के लिए सहायता राशि देने का निर्णय लिया है जो भारत जैसे गरीब एवं सीजनल रोगजार वाले देश के लिए एक बहुत ही जरूरी एवं कारगर पहल साबित हो सकती है। हालाँकि सहायता हेतु घोषि...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
दिल्ली, मुम्बई व अहमदाबाद, हर बड़े शहरों से लोग भागकर अपने गाँव और घरों की ओर लौटना शुरू कर दिए हैं। इन शहरों के बस स्टेशनों पर भीड़ है। एक बहुत बड़ी भीड़। हजारों-लाखों लोग अपने घरों की तरफ लौट पड़े हैं कुछ पैदल तो कुछ सरकार द्वारा उपलब्ध कराए यातायात साधनों से। समाचार...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
आज अंततः सात साल के बाद निर्भया के दोषियों को देर से ही सही परन्तु सजा मिल गई। निर्भया के माता-पिता की ये लड़ाई ना सिर्फ उनके लिए बल्कि पूरे समाज के लिए ही बहुत ही लम्बी एवं अंदर तक तोड़ देने वाली लड़ाई साबित हुई है। इसलिए लोग खुश हैं। उनका कानून पर विश्वास मजबूत हुआ...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
पिछले कुछ दिनों से जबसे भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है, गोमूत्र पुनः चर्चा में आ गया है। कुछ लोग गोमूत्र सेवन को कोरोना से बचाव का उपाय बताते हुए गोमूत्र पार्टी का आयोजन कर रहे हैं। कुछ इस दावे का उपहास उड़ा रहे हैं। वहीं पर कुछ लोग ऐ...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
अंततः माधवराव सिंधिया के बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने महीनों की कयास के बाद कॉग्रेस को ना सिर्फ अलविदा कह दिया है बल्कि अपने लिए भाजपा के रुप में नया घर भी चुन लिया है। मैंने शुरुआत में ज्योतिरादित्य को माधवराव का बेटा इसलिए कहा कि किञ्चितरुप से 18 साल के अपने राज...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
अद्यतन एक बहुत सुखकर प्रक्रिया है। खासकर बुढ़े बुजुर्गों के लिए। भारत एक पुरानी सभ्यता है तो यहाँ सब कुछ ही बहुत पुराना हो गया है। मतलब बुर्जुआ टाइप का! इसलिए इस विषम समय में भारत को अपडेट करते रहना भी एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण कार्य है। समय की घिसावट से कुछ नए आधुनि...
 पोस्ट लेवल : Hindi Article Satire Literature
Rajeev Upadhyay
338
चच्चा खीस से एकमुस्त लाल-पीला हो भुनभुनाए जा रहे थे मगर बोल कुछ भी नहीं रहे थे। मतलब एकदम चुप्प! बहुत देर तक उनका भ्रमर गान सुनने के बाद जब मेरे अन्दर का कीड़ा कुलबुलाने लगा। अन्त में वो अदभुत परन्तु सुदर्शन कीड़ा थककर बाहर निकल ही पड़ा। ‘चच्चा! कुछ बोलोगे भी कि बस गा...
 पोस्ट लेवल : Hindi Article Literature
Rajeev Upadhyay
338
बीते कुछ तिमाहियों के दौरान भारतीय व्यवस्था में नाटकीय तरीके से गिरते जीडीपी ग्रोथ ने पूरी दुनिया को हैरान किया है। वर्ष के शुरुआत में आईएमफ ने 2019 के अपने पूर्वानुमान में भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास गति 8% आंका था। परन्तु जून बीतते-बीतते भारत सहित दुनिया की विभि...
 पोस्ट लेवल : Economy Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
कहते हैं कि जब आप दूसरों के लिए गढ्ढा खोदते हैं तो उस गढ्ढे में आपके गिरने की संभावना भी लगातार बनी रहती है। यह कंटीले तार पर चलने जैसा है। आप चाहें ना चाहें परन्तु आपके पाँव उन कँटीले तारों से जख्मी हो ही जाते हैं। कोरोना वायरस से पीड़ित आज के चीन की स्थिति भी एक ऐ...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article
Rajeev Upadhyay
338
शरजील इमाम, गोपाल और उनके बाद कपिल ने अनेकों सवालों को जन्म दिया है। परन्तु इसी शोर के बीच लोहरदगा में 23 जनवरी को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का समर्थन करने वाली तिरंगा रैली पर समाचार खबरों के हिसाब से मुस्लिम इलाके से गुजरते समय भीड़ पथराव कर देती है जिसमें अने...
 पोस्ट लेवल : Politics Hindi Article