ब्लॉगसेतु

Bhavana Lalwani
361
आज मैंने बरसो बाद रात के आसमान में, काले सलेटी बादलों के  मेले में छिपते छिपाते चाँद को देखा।  एक सफ़ेद मोती, चांदनी का थाल, आसमान की चादर पर टंका रेशम का टुकड़ा। ये चाँद फूली हुई रोटी कैसे लग सकता है ??? रोटी तो हलके भूरे गेहुएँ रंगत वाली और छोटी छोटी काली...
 पोस्ट लेवल : Hindi Essays night moon
Bhavana Lalwani
361
इस दुनिया का हर आदमी एक कहानी है।  उसका बोलना, चलना, रहना,  व्यव्हार, जीवन सब कुछ एक लम्बी ऊबा देने वाली कहानी है जिसके प्लाट और थीम को हर समय प्रेडिक्ट करने की कोशिश की जाती है।  दुनिया का ये सारा कारोबार, ये जगमग, ये  कोलाहल इन ढेर सारी कहानिय...
 पोस्ट लेवल : human life Hindi Essays random thoughts Life
Bhavana Lalwani
361
दिन गुज़रते हैं फिर भी वक़्त थमा  हुआ सा है.ये एक अजीब मौसम है, इसमें दिन और रात का हिसाब आपस में गड्डमड्ड सा हो गया है. यहां उत्तरी ध्रुव की लम्बी रौशनियों वाली रातें भी हैं और  महासागर  के अथाह विस्तार जैसे  अनंत तक पसरे हुए दिन भ...
Bhavana Lalwani
361
तो इस बार का indispire टॉपिक है, आपकी पसंद की टॉप टेन किताबें बताइये। अब पढ़ा तो बहुत है, स्कूल  कॉलेज और फिर नौकरी करते हुए पब्लिक लाइब्रेरी तक …  जो हाथ लगा वो सब पढ़ डाला। पर ऐसा टॉप टेन  जैसा कभी कुछ  सोचा नहीं। तो चलिए आज सोचते हैं,...
Bhavana Lalwani
361
नरम हरी घास पर रखा हुआ हर कदम, एक ठंडी लहर उसके शरीर के अंदर भेज रहा था.  ऐसा लगता था कि  ओस  की नमी उसके पैरों से होते हुए थके हुए शरीर के हर हिस्से तक पहुँच रही थी, तेज़ धूप से जले हुए मन प्राण  को फिर से ऊर्जा मिल रही थी."ये सुब...
Bhavana Lalwani
361
CarConnect.in, ये नाम मैंने इंडीब्लॉगर पर देखा और सोचा कि  क्यों ना इस कांटेस्ट में पार्टिसिपेट किया जाए, आखिरकार अब मुझे भी कार ड्राइविंग का और स्पीड का चस्का लग चुका है. जब बात हो रोडट्रिप्स की, फैमिली के स्टेटस की और कम्फर्ट की,  तब&nbsp...
Bhavana Lalwani
361
इस बार फिर से उसी पुराने मुद्दे पर लिखना का मन हुआ. अब आप इसे बात को बार बार दोहराना कह लें, बेकार की बकवास कह लीजिये या एक फ़्रस्टेड दिमाग का कचरा … जो मन में आये सोचिये, मैं परवाह नहीं करती। तो मुद्दा वही है "एक ब्लॉगर की दुःख भरी कथा".  लेकिन इस बार गुस्सा इ...
Bhavana Lalwani
361
परियों की कहानियाँ हम सबने अपने बचपन में ज़रूर पढ़ी होंगी। राजा रानी, राजकुमारियाँ और उनके साथ साथ आम इंसान भी उन कहानियों का हिस्सा हुआ करते थे.  अगर मेरी अपनी पसंद पूछिए तो मुझे बालहंस के परी कथा विशेषांक का बड़ी बेसब्री से इंतज़ार रहता था. एक मिनट, लगता है कि &...
Bhavana Lalwani
361
मेरा नाम भावना है. बहुत सीधा सादा  सा नाम है, काफी पुराना और शायद आउट ऑफ़ फैशन किस्म का भी.  एक लम्बे अर्से तक मेरा यही ख्याल था कि मेरा नाम इस दुनिया का सबसे बोरिंग और शायद सबसे खराब नाम है. बचपन से ही मुझे मेरा नाम बेहद नापसंद था. मुझे अपने नाम के अ...
Bhavana Lalwani
361
सड़कें  आजकल मुझे एक अजब फिलॉसॉफी की तरह लगती हैं. हर रोज़ दफ्तर तक जाने के लिए मुझे दस किलोमीटर का रास्ता तय करना होता है.  और तब थोड़ी थोड़ी देर में मुझे सड़क के कई रंग रूप और नक़्शे दिखाई देने लगते हैं. जाने क्या क्या विचार सूझने लगते हैं. सड़कें एक फैले...