ब्लॉगसेतु

सुरेन्द्र महरा
0
ब्रूस ली के अनमोल विचार और उद्दरण  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({ google_ad_client: "ca-pub-4514747025195846", enable_page_level_ads: true }); (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); चीनी हांगकांग अभिनेता, मार्शल कलाकार, महान...
सुरेन्द्र महरा
0
 योग पर महान लोगो के उद्धरण  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); आज के दौर में जिस तरह से हमारी जीवनशैली और खानपान में निरन्तर बदलाव हो रहा है उसने कई नई बीमारियों को जन्म दिया है जिससे व्यक्ति में तनाव और थकान का स्तर बढ़ रहा है. इससे निकलने के लिए ह...
सुरेन्द्र महरा
0
फादर्स डे पर महान लोगो के उद्धरण  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बचपन से ही हमें यह बताया जाता है की हमारे सबसे बड़े शिक्षक हमारे माता - पिता (Mata - Pita) होते है क्योंकि वे माता-पिता ही होते है जिन्हें एक बच्चा सबसे पहले देखता है और जानता है.  ...
समीर लाल
0
प्रभु अपने भक्तों का उद्धार करने भारत भूमि पर अपनी नाम पताका लहरा रहे हैं. लगता है अच्छे दिन आने वाले हैं. प्रभु का इस तरह अवतरित होना कोई संप्रदायिकता वाली बात  नहीं है और न ही इसे हिंदुत्व से जोड़कर देखना चाहिये.हर बात जिसमें अच्छे दिन नजर आयें, वो संप्रदायिक...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
0
..............................
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
0
..............................
समीर लाल
0
एकाएक सन २००५ के आस पास हिन्दी में ब्लॉग लिखने वाले अवतरित हुए.. और फिर तो सिलसिला चल पड़ा..रचनाओं के रचित होने का...लोगों को प्रोत्साहित करने का लिखने के लिए..आप भी लिखो. बोल लेते हो तो लिख भी लोगे. जैसे फिल्म देख कर घर लौटने पर फिल्म की कहानी सुनाते हो न..वैसे ही...
समीर लाल
0
सुन कर अजीब सा लग सकता है मगर हर शहर के मुँह में एक जुबान होती है और उस जुबान की अपनी एक अलग ही जुबान होती है. आपका शहर दरअसल वो शहर होता है जो आपके बचपन से जवानी तक के सफर का और अक्सर उसके बाद तक का भी, चश्मदीद गवाह होता है या यूँ कहें कि वो शहर जिस शहर में, आप...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
0
डॉ. ए पी जे अब्दुल कलामपूरा नाम - अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलामजन्म और बचपन - 15 अक्टूबर, सन् 1931 ई. को तमिलनाडु के रामेश्वरम के धनुषकोडी गांव में एक मध्यमवर्गीय संयुक्त मुस्लिम परिवार में हुआ था। उनके पिता जैनुलाब्दीन मछुआरों को नाव किराये पर...
समीर लाल
0
साहेब की थाली में दो सूखी रोटी और पालक का साग उनके स्वास्थय के प्रति सजगता दिखाती है. वो बड़े गौरव के साथ अपना ५६ इंची सीना ताने अपने रईस दोस्तों के बीच अपनी डाइट बताते है. अपना एक्सर्साईज रुटीन बधारते हैं. नित प्रति दिन ऐसी साइकिल (एक्सर्साईज बाईक) चलाने का दावा कर...