ब्लॉगसेतु

Yash Rawat
0
Teelu Rauteli (c) Yash Rawatतीलू रौतेली का संक्षिप्‍त परिचय7 वर्षों तक लगातार युद्ध लड़ने वाली और अजेय रहने वाली बीरबाला तीलू रौतेली उत्‍तराखंड का गौरव है जिसने पूरे गढ़वाल क्षेत्र को न केवल कंत्‍यूरों (कत्‍यूरों) के अत्‍यचारों से मुक्‍त कराया अपितु उसे सशक्‍त भी बना...
S.M. MAsoom
0
शाह का पंजा जिसे पंजे शरीफ भी कहते हैं जौनपुर का मुग़ल दौर का बना ऐतिहासिक इमामबाड़ा है | यह इमामबाड़ा भी मन्नत और मुरादों के लिए बहुत मशहूर है | जहांगीर के दौर में ख्वाजा मीर के बेटे सय्यिद अली जब मदीने गए तो वहाँ से हजरत अली (अ.स) का निशाँ ऐ दस्त और रसूल ऐ खुदा...
 पोस्ट लेवल : Imam Historical imambada azadari पंजे शरीफ
S.M. MAsoom
0
शाह फ़िरोज़ का मक़बरा आपको सिपाह मोहल्ले के सामने वाली सड़क जो जौनपुर और गोरखपुर की तरफ जाती है पे दूर से दिखाई देता है | अक्सर लोग इस भ्रम में पड़ जाते हैं की यह फ़िरोज़ शाह तुग़लक़ का मक़बरा है जिसने जौनपुर को १३५९ में बसाया था जो की सत्य नहीं है | शहज़ादा फ़िरोज़ शाह का...
Neeraj Jaat
0
13 दिसंबर 2019कुछ साल पहले जब मैं साइकिल से जैसलमेर से तनोट और लोंगेवाला गया था, तो मुझे जैसलमेर में एक फेसबुक मित्र मिला। उसने कुछ ही मिनटों में मुझे पूरा जैसलमेर ‘करा’ दिया था। किले के गेट के सामने ले जाकर उसने कहा - “किले में कुछ नहीं है... आओ, आपको हवेलियाँ दिख...
 पोस्ट लेवल : Rajasthan Recent Lake Winters West India Historical
Neeraj Jaat
0
मैं अनगिनत बार जोधपुर जा चुका हूँ, लेकिन कभी भी यहाँ के दर्शनीय स्थल नहीं देखे। ज्यादातर बार अपनी ट्रेन-यात्राओं के सिलसिले में गया हूँ और एक बार दो साल पहले बाइक से। तब भी जोधपुर नहीं घूमे थे और एक रात रुककर आगे बाड़मेर की ओर निकल गए थे। इस बार भी हम जोधपुर नहीं घू...
 पोस्ट लेवल : Rajasthan Recent Winters West India Historical
S.M. MAsoom
0
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); Jaunpur is a city in the state of Uttar Pradesh (U.P.)in India,situated 58km from Varanasi (Benaras) on the banks of river Gomti.The city was founded in 1360 by Delhi Sultan Firoz Shah Tughlaq who named it f...
 पोस्ट लेवल : JHANJRI MOSQUE Jaunpur History Historical Places
Neeraj Jaat
0
घर की मुर्गी दाल बराबर... इस वजह से हम डेढ़ महीने यहाँ गुजारने के बाद भी चैहणी कोठी नहीं जा पाए। हमारे यहाँ घियागी से यह जगह केवल 10 किलोमीटर दूर है और हम ‘चले जाएँगे’, ‘चले जाएँगे’ ऐसा सोचकर जा ही नहीं पा रहे थे। और फिर एक दिन शाम को पाँच बजे अचानक मैं और दीप्ति मो...
Ankita  Sahu
0
MAHESHWAR - A Journey to the Spiritual Capital of Ahilyabai HolkarHello Friends,                       अपना Hindi Blog लेकर एक बार फिर मैं आपके समक्ष उपस्थित हूं।            &...
Neeraj Jaat
0
5 मार्च 2019कुछ दिन पहले जब हमारे एक दोस्त मधुर गौर मैसूर घूमने आए थे, तो उन्होंने अपनी वीडियो में तालाकाडु और सोमनाथपुरा का भी जिक्र किया था। इससे पहले इन दोनों ही स्थानों के बारे में हमने कभी नहीं सुना था। फिर जब हम विस्तार से कर्नाटक घूमने लगे और बादामी, हंपी, ब...
S.M. MAsoom
0
आप जब मुफ़्ती मोहल्ले से गोमती किनारे जाएंगे तो आप को टीले के ऊपर एक मस्जिद दिखाई देगी जो की अकबर के समय की बानी हुयी मस्जिद है | इस मस्जिद को एक हाथी के व्यापारी ने बनवाया था जिस दौर में मुईन खानखाना जौनपुर के नाज़िम थे | एक व्यापारी था जो जौनपुर में हाथी बेचने...