ब्लॉगसेतु

प्रातिक माहेश्वरी
420
बहुत दिन हो गए नीचे वाली चंद पंक्तियों को.. मैं स्वतंत्रता दिवस का इन्तज़ार तो नहीं कर रहा था पर परिस्थितियों ने इस पोस्ट के लिए इसी दिन को मुनासिब समझा है..क्या किसी को याद भी है कि आज से कुछ १ महीने पहले मुंबई में बम-ब्लास्ट्स हुए थे? शायद नहीं.. सबको हिना रब्बानी...
Shah Nawaz Delhi
386
जनता चाहती हैं  कि भ्रष्टाचारी नेताओं को लोकपाल जैसे सख्त कानून में फांस ले और नेताओं ने व्यवस्था ऐसी बना दी है जिसमें जनता खुद ही भ्रष्टाचारी बन रही है, जिससे वह मौज लेते रहे.&nbs...
 पोस्ट लेवल : indian politics cartoon
Mahesh Barmate
384
मैदान-ए-जंग में उतर जा,ऐ वीर ! तू आज कुछ कर गुजर जा,आज तुझे है किस बात का इंतजार ?किसी की खातिर न सही,देश के लिए तो आज तू मर जा...ज़िन्दगी में कुछ न किया, न सही...,पर आज तू देश के लिए कुछ कर गुजर जा...सोच के तेरा महबूबदेश की इस माटी में है बसा...और उसके लिए जं...
 पोस्ट लेवल : india hindi hindi kavita desh bhakti 15 august bharat
Abhishek Kumar
334
ऐतिहासिक जीत..अविस्मरणीय पल  प्रभात और मती के अलावा और किसी भी दोस्त का उन दिनों घर पे आना नहीं होता था.२६ जुलाई को जब कारगिल युद्ध में अपनी जीत पूरी हुई तो प्रभात ने उस शाम बड़ी अच्छी एक बात कही- "अभिषेक देखो तुम्हारे बर्थडे पे तुमको कितना अच्छा गिफ...
Raam Mishra
214
इस बार भी अगस्त की छुट्टियों के लिये घर आना था। अगस्त मे यूरोप से बाहर जाने वाले उड़ानें महंगी होती हैं, इसलिये हमने मई मे ही तारीखों पर ज्यादा तवज्जो न देते हुए २६ जुलाई और २९ अगस्त का टिकट याहू ट्रवेल से खरीद लिया।ये तो बाद मे पता चला कि अगर मै कुछ और दिन रूक जाता...
Abhishek Kumar
334
कल का दिन अच्छा था मेरा, शाम को मुड भी अच्छा लग रहा था,पूरी शाम मैं बाहर था, एक दूकान में चाय पी ही रहा था की सोचा घर बात कर लूँ, यूँ तो शाम में ही माँ से बात हो गयी थी, फिर भी सोचा की एक बार और फोन कर लूँ...माँ ने फोन पे जो बताया उसे सुन कर मैं स्तब्ध रह गया - मुं...
praveen blogger
231
...यह मुद्दा वाकई बहुत ही गंभीर है, पर न जाने क्यों इस पर कुछ भी लिखने या कहने से पहले एक चीनी (या जापानी ?) लघुकथा जिसे बहुत पहले शायद बचपन में पढ़ा था, याद आ रही है...कथा कुछ यों है... झेल ही लीजिये...'एक गाँव में एक परिवार रहता था परिवार में कुल जमा चार लोग थे य...
Dr. Zakir Ali Rajnish
588
मानसून की बरसात ज्यादातर जगहों पर शुरू हो गयी है ..मैं गाँव गया तो कोबरा साँपों के दिखने की खबरें सुनायी देने लगीं. हमने साँपों पर जन जागरण के लिहाज से श्री द्वारिकाधीश लोक संस्कृति और वानस्पतिकी विकास संस्थान के सौजन्य से एक सर्प जनजागरण आयोजन किया.कार्यक्रम...
 पोस्ट लेवल : Indian snakes When snake bites Snake news Snake bite safety
Vivek Rastogi
53
    इकोनोमिक टॉइम्स (Economics Times) और टॉइम्स ऑफ़ इंडिया (Times of India) बहुत सारे लोग पढ़ते होंगे। सोमवार को इकोनोमिक टॉइम्स में वेल्थ (Wealth) और ऐसे ही टॉइम्स ऑफ़ इंडिया (Times of India) में भी आता है, जिसमें वित्तीय प्रबंधन के बारे में बताया जाता...
Amit K Sagar
489
रामकृष्ण डोंगरे'जर्नलिस्ट अमर उजाला'शादी ... क्यों ?लोग शादियां क्यों करते हैं? ये तो वे ही जानें, और मैं शादी क्यों कर रहा हूं। यह आपको ३० अप्रैल के बाद पता चल जाएगा। जब आप थोड़ा पसर्नल डोंगरे से रूबरू हो सकेंगे। फिलहाल बहस में हिस्सा लेते हुए हम आपको कुछ सोचना...