ब्लॉगसेतु

समीर लाल
80
नेता का नाम लो, जेहन में भ्रष्टाचार का ख्याल आता है. सचिन का नाम लो, तो क्रिकेट कौंधता है दिमाग में. सर्दी की बात आती है तो रजाई याद आती है.कभी कोई नहीं कहता कि कम्बल में दुबके बैठे हैं. हमेशा रजाई में दुबकने की ही बात होती है.भारत में ठंड में रजाई में दुबके रहने क...
समीर लाल
80
छेड़छाड़ का इतिहास तो बहुत पुराना है. हमारे समय में कोई मोहल्ला, कोई शहर और कोई प्रदेश इसके लिए कुख्यात हुआ करते थे. लेकिन कुख्यात होना अपनी जगह था और कहीं ज्यादा कहीं कम की मात्रा में लड़कियों से छेड़छाड़ आम बात थी. जैसे कभी कुख्यात चंबल में पाये जाते थे तो फिर संसद मे...
समीर लाल
80
चकल्लस और हँसी मजाक में वही महीन सा अंतर है जो षड्यंत्र और राजनीति में है. हमेशा आप देखेंगे कि लोग हँसी मजाक में तो आनन्द लेते हैं मगर जैसे ही हँसी मजाक हद पार कर चुभने लगती है तो लोग पल्ला झाड़ लेते हैं कि यार!! क्या चक्कलस मचा रखी है? हमको इस चक्कलस से दूर ही रखो....
समीर लाल
80
अति की तरह ही छेड़छाड़ को भी हर हाल में बुरा माना गया है. फिर वो चाहे लड़की से हो, भूगोल से हो या इतिहास से. अति सर्वत्र वर्जिते!!लड़कियों से छेड़छाड़ करना तो खैर सदियों से हमारी परम्परा और संस्कृति का हिस्सा रही है और इसे मान्यता भी लगातार पुरुष प्रधान मानसिकता देती आई...
समीर लाल
80
दिखता है खुली आँखों विकास. न!! वो जुमले वाला नहीं..दूसरा वाला और वो भी २०१४ के बाद वाला नहीं..जो अनवरत होता ही रहता है वो वाला.कभी रेडिओ पर गाने सुना करते थे, फिर ट्रांजिस्टर पर सुनने लगे, फिर स्पूल वाले टेप रिकार्डर पर सुने, ग्रामोफोन पर सुने. फिर एल पी पर सुने..औ...
समीर लाल
80
उद्गम स्थल की अपनी बड़ी महत्ता होती है, जैसे कुछ परिवारों में जन्म लेने की होती है. दिल्ली वाले गाँधी परिवार या लखनऊ-पटना वाले यादवों के यहाँ पैदाभर हो जाओ तो राजनीति में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाना और बड़े नेता बनना तय हो जाता है, फिर भले ही आप १२ वीं फेल हों या आपका...
समीर लाल
80
खाने को फ्रीज कर अधिक समय तक ताजा रखने और उसे बासी और खराब होने से बचाने की परंपरा कम से कम पश्चिमी देशों में तो खूब है. शायद वजह यह हो कि जब सारे काम खुद ही करने हैं तो नित दफ्तर, बड़े शहरों की क्म्यूट की भाग दौड़ और पति पत्नी दोनों काम काजू..ऐसे में यह कैसे संभव हो...
समीर लाल
80
जब किसी की नई नई तोंद निकलना शुरू होती है तो वो बंदा बड़े दिनों तक डिनायल मोड में रहता है. वह दूसरों के साथ साथ खुद को भी भ्रमित करने की कोशिश में लगा रहता है. कभी टोंकते ही सांस खींच लेगा और कहेगा कहाँ? या कभी कहेगा आज खाना ज्यादा खा लिया तो कभी कमीज टाईट सिल गई जै...
समीर लाल
80
किस्मत किस्मत की बात है. कहावत है कि किस्मत अच्छी हो तो बदसूरत लड़की भी राजरानी बन जाए और खराब हो तो खूबसूरती भी किसी काम न आये.कचरों की किस्मत भी कुछ ऐसी ही है.स्वच्छता अभियान के चलते हाल ऐसा हो लिया की कुछ कचरों को तो खोज कर बुलवाया गया कि आओ,  मंत्री जी...
समीर लाल
80
आज ज्ञान पान भंडार पर घंसू सुबह सुबह बड़ी चिंताजनक मुद्रा में बैठे थे. दुकान के बाहर लगा बोर्ड ‘कृपया यहाँ ज्ञान न बांटे, यहाँ सभी ज्ञानी हैं’ तो मानो सरकारी दफ्तर में लगी गांधी जी की तस्वीर हो जो कहने को तो ईमानदारी और सच्ची लगन से देश सेवा का प्रतीक है मगर इसके ठी...