ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
24
दुष्यंत की कहानी: तीसरे कमरे की छत, पांचवीं सीढ़ी और बारहवां सपनामानव पीड़ाएँ अगर प्राकृतिक हो सकती हैं और अपने ऊपर कहानियाँ लिखवा सकती हैं तो प्रकृति की पीड़ाओं का कारण मानव हो सकता है, रही बात उनपर कहानियाँ लिखे जाने की, तो, कवियों को यह वाली पीड़ा दिखती सताती रही...
Bharat Tiwari
24
"जाति एक सच है परंतु उस के भीतर वर्ग भी साँस लेता है, किसी गर्भस्थ शिशु की तरह।", दलित साहित्य का स्वरूप निखारती, अजय नावरिया की रोचक रूमानी कहानी "आवरण"पाठक हो या समाज, उसे अपने पड़ोसी पाठक और पड़ोसी समाज के उत्थान और पतन दोनों के विषय का जानकार होना, अपडेटेड रहना उ...
Bharat Tiwari
24
धामा अपने गुस्से को छिपाकर अचानक संयत हो गया. उसने कपट की अधिकता से हल्की हो गई आवाज में कहा, "देख रहे हैं सर...आप भी देखते जाइए. याद करिएगा...राजेंद्र यादव हंस कथा सम्मान 2019 : अनिल यादव की कहानी "गौसेवक " इस कहानी को २०१९ का हंस कथा सम्मान दिए जाते समय जो ब...
Bharat Tiwari
24
हिंदी में हिंदी पर हिंदी के साथ हिंदी वालों में हो रही उठापटक, स्वामित्व और वर्चस्व की लड़ाई के बीच कहानीकार जयश्री रॉय की कहानी 'स्वप्नदंश' ने मुझे घेर लिया. कहानी शुरू करते हुए मैं उसके नाम का अर्थ सोच रहा था, स्वप्न और दंश यानि स्वप्न में होने वाला दंश, जी कि है...
Bharat Tiwari
24
बैल बाजार भाव, साहित्य, समाज और अनुज की कहानी "खूँटा"मेरे एक जानकार ने कहा हिंदी की साहित्यिक कहानी मुझसे नहीं पढ़ी जाती... मैं सोच में पड़ गया कि क्यों आख़िर कहानी पढ़ना हर किसी को क्यों नहीं भाता, उसे भी जो हिंदी से दूर नहीं है? इस विषय में सोचा जाना ज़रूरी है. यदि गू...
Bharat Tiwari
24
फ़ोटो: भरत एस तिवारीकहानीकृश्न चन्दरजी का कालजयी व्यंग्य 'एक गधे की आत्मकथा' अभी इसलिए याद आ रहा है कि हिंदी को अच्छी-अच्छी कहानियों से समृद बना रही युवा कहानीकार योगिता यादव की कहानी 'ये गई रात के किस्‍से हैं ' पढ़ने के बाद यह अहसास अभी तक बना हुआ है कि कहानी 'एक पत...
Bharat Tiwari
24
निदा फ़ाज़ली के शायरी से इतर— अब कहाँ दूसरे के दुख से दुखी होने वालेगर्मी है. बच्चों की छुट्टी है. आज सूरज को दिल्ली को ४० डिग्री के ऊपर तपाते हुए चौथा दिन है. बच्चों के साथ कमरे में मैं और सिम्बा गर्मी से वातानुकूलित माहौल में आराम से बैठे हैं. आरुषि ने फिनिय...
Bharat Tiwari
24
'वागर्थ' में प्रकाशित अनुज की कहानी 'पंजा'vagarth hindi magazine me prakashitलूटमार की बुराई समाज के सामने लाने वाला साहित्य लूटमार को ग्लोरीफाई करेगा क्या? लूटमार से जुड़ी घटनाओं को उसकी नग्नावस्था में पाठक के सामने रखा जाये तो उसे डरावना-लेखन (हॉरर) कहा जाए कि साह...
 पोस्ट लेवल : Anuj कहानी Kahani अनुज
Bharat Tiwari
24
लप्रेक – है क्या यह? पढ़िए मुकेश कुमार सिन्हा की तीन लघु प्रेम कहानियाँउम्मीद शायद सतरंगी या लाल फ्रॉक के साथ, वैसे रंग के ही फीते से गुंथी लड़की की मुस्कुराहटों को देख कर मर मिटना या इंद्रधनुषी खुशियों की थी, जो स्मृतियों में एकदम से कुलबुलाई।मॉनसूनमेघों को भी...
Bharat Tiwari
24
आजकल की कहानियों के साथ किये जाने वाले प्रयोगों — जो अधिकांशतः असफल होते हैं — ने कहानी-कला का नुक्सान अवश्य किया होगा. लचर होती जाती कहानियाँ और उनसे लदेफदे अखबार और अनजान पत्रिकाएं  हिंदी साहित्य की धता उतारने में व्यस्त हैं. इनसब के बीच अच्छी कहानियाँ...