ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
पुस्तक सलिला'सही की हीरो' साधारण लोगों की असाधारणता की मार्मिक कहानियाँआचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[पुस्तक विवरण- सही के हीरो, कहानी संग्रह, ISBN 9789385524400, डॉ. अव्यक्त अग्रवाल, प्रथम संस्करण २०१६, आकार २१.५ से.मी. x १३.५ से.मी., आवरण पेपर बैंक बहु...
Bharat Tiwari
23
Pata — Kiran Singhकुछ कहानियाँ ऐसी होती हैं कि पाठक को 'खोल' देती हैं और वह आगे उचक-उचक पढ़ता है, कहानी मानस तक गए बिना ख़त्म हो के कहीं निकल जाती हैं, कुछ कहानियाँ ऐसी होती हैं जिनसे पाठक खुद-को 'बाँध' लेता हैं; अपने को किरदार पाता है, डूब जाता है... और कुछ कहा...
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला *कर अव्यक्त को व्यक्त हम, रचते नव 'साहित्य' भगवद-मूल्यों का भजन, बने भाव-आदित्य .मन से मन सेतु बन, 'भाषा' गहती भावकहे कहानी ज़िंदगी, रचकर नये रचाव .भाव-सुमन शत गूँथते, पात्र शब्द कर डोर पाठक पढ़-सुन रो-हँसे...
समीर लाल
79
किसी का मर जाना उतना कष्टकारी नहीं होता जितना की उस मर जाने वाले के पीछे उसी घर में छूट जाना.जितने मूँह, उतने प्रश्न, उतने जबाब और उतनी मानसिक प्रताड़ना.सुबह सुबह देखा कि बाबू जी, जो हमेशा ६ बजे उठ कर टहलने निकल लेते है, आज ८ बज गये और अभी तक उठे ही नहीं. नौकरानी चा...
Rajendra kumar Singh
348
हमारी ज्यादा रूचि सिर्फ दूसरों को जानने और अपनी जान पहचान बढ़ाने में ही रहती है, खुद अपने को जानने में नहीं रहती। हमारी यह भी कोशिश रहती है कि अधिक से अधिक लोग हमें जानें, हम लोकप्रिय हों पर यह कोशिश हम जरा भी नहीं करते कि हम खुद के बारे में जानें कि हम क्या हैं, क्...
Rahul singh
450
आपका  अपना  नजरियाएक  आदमी  ने  जंगल  के  पास  एक  बहुत  सुंदर  मकान  बनाया  और  पेड़  पौधो  का  बगीचा  लगाया, जिससे  जंगल  से  आने - जाने  वाले  लोग...
Rahul singh
450
शक्ति का सही उपयोगएक  बार  एक  पहलवान  आदमी  एक  बड़ा  बैग  लेकर  ऱेल्वे स्टेशन  पर  उतरा। वह आदमी  रेल्वे स्टेशन  से बाहर  निकला  और  अपने  लिए  रिक्शा  ढूढ़ने &nbs...
Rahul singh
450
कोई  भी  चीज  बेकार  नहीं। एक  मगध  देश  का  राजा  था, उसने  अपने  सलाहकार  को  आज्ञा दी  कि  वह  इस  देश  में  इस  बात की  खोज  की  जाए  कि...
Rahul singh
450
बुद्धि की दुकानएक था  बुद्धि और  बुद्धि  में  भी  उसका  सामना  कोई  नहीं  कर  सकता  था। उसने  अपने  घर  के  बाहर बड़े-बड़े  अक्षरों  में  लिखा- 'यहां  बुद्धि  मिलती...
Rahul singh
450
आन्तरिक  प्रेरणाएक  लड़का  रोज  क्रिकेट  खेलने  की  प्रैक्टिस  करने  लगातार   जाता  था ,  लेकिन  वह  कभी  टीम  में   शामिल  नहीं  हो  सका ।  जब  वह &n...