ब्लॉगसेतु

रेखा श्रीवास्तव
582
               कहानियां कहाँ जन्म लेती हैं? हमारे आस पास और हमारे ही बीच में. उनके पात्र हम ही तो होते हैं. बस नाम बदले होते हैं और उनके हालत भी , बाकी सब चीजें वही होती हैं. एक परिवार, समाज , दे...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                      मेरे अंतर में एक द्वंद्व चल रहा था, कितना अच्छा घर बार था, लड़का भी अच्छा था, कितने सज्जन लोग और सास तो कनु की बलिया ले ले कर नहीं थक रही...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                आफिस में जाकर पता चला कि नौकरी या तो पत्नी को मिलेगी या फिर बेटे को. अगर पत्नी न कर सके तो जगह सुरक्षित रखी जाएगी और बेटे को मिल जायेगी. रहने का मकान भी सुरक्षित रहेगा. पेंशन पत्नी को मिलेगी.  देवर के सोच...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                               ऐसा नहीं कि माँ विनीत में हो रहे वैचारिक परिवर्तन से वाकिफ न हो, लेकिन वह अपनी गरिमा...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                          कितना अच्छा होता कि वह इस हादसे में मर ही जाती, कम से कम फिर से वही तो न देखना और सुनना पड़ता. क्या भविष्य है उसका...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                 तकलीफ के बाद भी तरुणा यहाँ पर बहुत सुखी थी. न माँ बाप की चख चख  , न भाइयों की असभ्यता भरी बातें और न ही ताने. हाँ वही ताने जिनके बारे में वह बिल्कुल भी जिम्मेदार न...
 पोस्ट लेवल : kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
                 अस्पताल के बैड पर बैठी तरुणा  , खिड़की से बाहर देख रही थी शायद कोई आ रहा होगा, मगर कौन? घर से - घर के नाम से उसे वितृष्णा होने लगी है. लोग कहते हैं कि अपने होते है...
 पोस्ट लेवल : kahani
Pawan Kumar Sharma
133
तीर्थपुरी में चार दिन रहने के बाद वापसी में प्लेटफार्म पर बैठा मैं ट्रेन का इंतजार कर रहा था कि सामने आठ दस लोगों के एक परिवार पर नजर पड़ी।परिवार का मुखिया मुट्ठी में कुछ रुपये दबाये पंडित जी से विनती कर रहा था, ''पंडित जी आपने हमारे पूरे परिवार को दो दिन काफी अच्छ...
 पोस्ट लेवल : kissa-kahani
रेखा श्रीवास्तव
582
             सुरभि के सिर से आज पिता का साया भी उठा गया, वह शून्य में निहार रही थी अब क्या होगा? जीवन के इतने वर्ष तो माँ और पापा के निर्देशन में ही गुजरे थे. बड़े भैया तेरहवीं के बाद अपनी नौकरी पर चले गए....
 पोस्ट लेवल : kahani
Pawan Kumar Sharma
133
         आखिर 'लव' में ऐसा क्या है जो इसे दुनिया की सबसे बड़ी मिस्ट्री माना गया है। अपने प्रेमी के लिए ललक ऐसी चीज है, जिसने वैज्ञानिकों को भी लम्बे वक्त तक हैरान किया है। प्यार करने वालों के बीच इस पागलपन का कारण जानने के लिए जाने कित...
 पोस्ट लेवल : kissa-kahani