ब्लॉगसेतु

MediaLink Ravinder
0
 पैदल चलते इस सत्याग्रह की शुरुआत किसी ने नहीं की मुंबई: (सायली पावसकर रंगकर्मी//हिंदी स्क्रीन)::आज के इस दौर में जहां बाज़ारवाद, भूमंडलीकरण लोकतंत्र के मूल्यों को नष्ट कर रहा है, जहां समाज असंवेदनशील होकर तालियां और थालियां बजा रहा है, जहां जनप्रतिनि...
MediaLink Ravinder
0
मंजुल भारद्वाज की कविताओं ने मोड़ा राजनैतिक बहस का रुख!मुंबई: (सायली पावसकर रंगकर्मी//हिंदी स्क्रीन)::अंतिम व्यक्ति लोकतंत्र की लड़ाई लड़ रहा है! अपनी इस काव्य रचना में मंजुल भारद्वाज कहते हैं:रंगचिंतक मंजुल भारदवाज भारतीय समाज और व्यवस्था काअंतिम व्य...
MediaLink Ravinder
0
Sunday: 28th June 2020 at 8:00 PM to medialink32@gmail.com सत्ता और पूंजीवादी व्यवस्था नग्न रूप में सामने आ गए हैं  अन्न के एक एक दाने को मोहताज हो गई देश की श्रमिक जनता-आखिर कौन है ज़िम्मेदार?मुंबई: (सायली पावसकर रंगकर्मी//हिंदी स्क्रीन)::कला के...