ब्लॉगसेतु

Jot Chahal
0
Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya,Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya.इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया। Aata Hai Daag-e-Hasrat-e-Dil Ka Shumaar Yaad,Mujhse Mere Gunah Ka Hisaab Ai Khudaa Na Maang.आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का...
 पोस्ट लेवल : Best Shayari Mirza Galib
Tejas Poonia
0
19वीं शताब्दी के सबसे बड़े कवि और शायर मिर्ज़ा ग़ालिब का आज ही के दिन इंतकाल हुआ था। ग़ालिब अपनी लेखनी से जो कमाल कर गये वो शायद ही इतिहास में कोई और शायर कर पाये। ग़ालिब ने जो शायरी लिखी हैं उन पर आज लोग अध्य्यन कर रहे हैं। “मैं वाकिफ़ हूं जन्नत की हकीकत से, लेकिन...
HARSHVARDHAN SRIVASTAV
0
चित्र साभार : bhavtarangini.blogspot.com आज महान शायर मिर्ज़ा असदउल्लाह ख़ां ग़ालिब उर्फ़ नौशा मियां का 201 वां जन्मदिन 27 दिसम्बर, 1998 को महज़ एक रस्म अदायगी के रूप में मनाया गया। यह ग़ालिब की तौहीन नहीं, हमारी बदकिस्मती है जो हम अपने नामचीन शायर को उसकी कब्र पर एक फूल...