ब्लॉगसेतु

Dev datt
576
Vaishnavastra(वैष्णव अस्त्र) - Fastest Weapon Of Lord Vishnu [Hindi] Vaishnavastra(वैष्णव अस्त्र) - Fastest Weapon Of Lord Vishnu [Hindi] | महाभारत के युद्धमें हमें अनेको अनोखे और महाशक्तिशाली अस्त्र और शस्त्रों के वर्णन दिखाई देते हे | इन अस्त्रों के वर्णन से...
Dev datt
576
(रुद्रास्त्र और माहेश्वरास्त्र - शिवजी के महाघातक अस्त्र | Rudrastra - Maheshwarashtra Weapons) भगवान शिव के दैवी अस्रो का जब भी जिक्र होता हे तब पशुपतास्र(Pashupatastr) का नाम आता हे, और शस्त्रो मे त्रिशूल के बारे मे चर्चा होती हे. लेकिन बहोतसे लोगो को भगवान...
Dev datt
576
(इंद्रजीत और लक्ष्मण का अंतिम युद्ध)! रामायण का एक महान वीर, जो रावण कि तरफ से लडा था... और अगर वो मारा न जाता तो शायद रामायण के युद्ध का परिणाम कुछ अलग हो सकता था, जिसे इंद्रसे जितने कारन इन्द्रजीत कहा जाता था... नाम था रावणपुत्र मेघनाद !! आजके article मे हम बात क...
Dev datt
576
राम रावण अंतिम युद्ध(Ram Ravana Finale Battle)राम रावण अंतिम युद्ध(Ram Ravana Finale Battle)! महाभारत इन्सान को धर्म-अधर्म के फेरे मे उलझा देती हे. और हम समझ ही नही पाते की धर्म क्या हे और अधर्म क्या हे. पर रामायण उस निर्मल जल की तरह हे जो हमे सिर्फ नैतिकता और...
Dev datt
576
रामायण के वानर थे इन देवताओ के अवतार(रामायण के वानर थे इन देवताओ के अवतार) आप सभी तो जाणते ही होंगे कि भगवान राम और भगवान कृष्ण ... भगवान विष्णू द्वारा लिये पृथ्वी पर लिए अवतार थे. पर आपमेसे बहोतसे लोग ये नही जाणते होंगे कि भगवान श्रीराम कि सेना के भाग बने अनेको वा...
Dev datt
576
जब चर्पटीनाथ ने किया इंद्र विष्णू और शिवसे युद्ध - नवनाथ भक्तिसार कथानाथ संप्रदाय का एक व्यक्ति भारत के सबसे बड़े राज्य का मुख्यमंत्री बन गया हे. पर फिर भी बहोत सारे लोगो को आज भी नाथ संप्रदाय के बारे में पता नहीं हे. आजतक हमने आपको बहोत सी पौराणिक कथाये सुनाई हे और...
शरद  कोकास
674
साहित्य में 'मजनू' आ जाये तो क्या होगा किसी भी रचना में खास तौर पर कविता में ऐतिहासिक या माइथोलॉजीकल सन्दर्भों की अधिकता की वज़ह से उसे तत्काल समझने में व्यवधान उत्पन्न होता है । यह हमारे अध्ययन और जानकारी पर निर्भर करता है कि हम उस सन्दर्भ को कितना समझ सकते है...
शरद  कोकास
571
एक समय था जब मनुष्य इस बात को नहीं जानता था कि मनुष्य का जन्म कैसे होता है । वह अपनी अज्ञानता में हवा , बादल, पानी को इसका ज़िम्मेदार मानता था । हमारी पुराण कथाओं में ही नहीं विश्व के तमाम मिथकीय साहित्य में मनुष्य के जन्म लेने के ऐसे ही किस्से हैं ।  कहीं कोई&...
Bharat Tiwari
23
सीता को तुमने भेजा वन, अब क्यों हैं तेरी आंखें नम? जो लोग सीता के परित्याग के लिए राम की आलोचना करते हैं, वे राम का ऐसा स्वरूप पेश करते हैं मानो राम एक पत्थरदिल और सत्तालोलुप इंसान थे जिनको अपना सिंहासन इतना प्रिय था कि उसको खोने के भय से सीता को ही जंगल भेज द...
Bharat Tiwari
23
हमारा दुश्मन यह दुनिया नहीं, बल्कि हमारा अपना मन है।न मन मारें, न मन सुधारें: मूजीएक ही समय में हम बहुत-कुछ कर रहे हैं - पूजा से लेकर परपंच तक...साहित्य से लेकर क्रिकेट मैच तक...दूसरों को और कुछ दें न दें ज्ञान हम ज़रूर दे रहे हैं. नाराज़ न होइए, दरअसल एक निवेदन है आ...