ब्लॉगसेतु

Vidyut Maurya
27
टनकपुर से सुबह साढ़े पांच बजे स्नान करके मैं नेपाल के ब्रह्मदेव के लिए निकल पड़ा हूं। शिवाला चौक से आगे स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शाखा वाली सड़क पर आगे बढ़ता हुआ मैं शारदा नदी के तट पर पहुंच गया हूं। एक बैटरी रिक्शा वाले से बात हुई। उसने 20 रुपये में शारदा बैराज तकपह...
 पोस्ट लेवल : TEMPLE NEPAL UTTRAKHAND
Vidyut Maurya
27
माता पूर्णागिरी मंदिर के रास्ते में जितनी भी दुकानें बनी हैं सभी वन विभाग की जमीन पर अवैध तरीके से ही बनी हैं। किसी के पास यहां जमीन का मालिकाना हक नहीं है। पर रास्ते में पक्के घर, बिजली कनेक्शन, डिश टीवी पहुंच गया। चाय नास्ते और भोजन की दुकानें खुल चुकी हैं। श्रद्...
 पोस्ट लेवल : NEPAL UTTRAKHAND WATER
Vidyut Maurya
27
नेपाल के भैरहवा शहर की मुख्य सड़के चौड़ी हैं। दोनों तरफ सर्विस रोड भी बने हैं। यहां पर ठहरने के लिए सस्ते से लेकर पांच सितारा तक होटल हैं। यहां कुछ होटलों में कैसीनो भी संचालित होता है। किसी जमाने में भारत के लोग भैरहवा में खरीददारी करने आया करते थे। जैसे बिहार से...
 पोस्ट लेवल : UTTAR PRADESH TRAVEL NEPAL
Vidyut Maurya
27
लुंबिनी में माया देवी का मंदिर और भगवान बुद्ध की जन्मस्थली देखकर वापस लौट रहा हूं। मन में अदभुत शांति और संतोष की अनुभूति है। पर आपको पता है सातवीं सदी तक प्रमुख स्थल रहा लुंबिनी बाद में लोगों की नजरों से ओझल हो गया था। लुंबिनी की खोज 1898 में डाक्टर एलाएस एनंटन फु...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
Vidyut Maurya
27
दुनिया भर से लोग आएंगे - शाक्यमुनि गौतम बुद्ध ने कहा था, हे आनंद, जब मैं नहीं रहूंगा। मेरे साथ आस्था रखने वाले लोग विश्वास, उत्सुकता और भक्तिभाव के साथ यहां आएंगे। लुंबिनी वह स्थल जहां मेरा जन्म हुआ, आध्यात्मिक भाव और शांति का अन्यतम स्थल बनेगा। यह उस समय का स...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
Vidyut Maurya
27
शाम के छह बजे हैं और मैं एक बार होटल से निकल कर अपनी साइकिल लेकर माया देवी मंदिर की ओर चल पड़ा हूं। इस मंदिर का प्रवेश गेट नंबर 4 से है। गेट से करीब एक किलोमीटर अंदर जाने के बाद हरे भरे विशाल परिसर में मायादेवी का मंदिर है। काफी लोग मंदिर की ओर पैदल भी जा रहे हैं।...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA WORLD HERITAGE SITE NEPAL
Vidyut Maurya
27
लुंबिनी में अलग अलग देशों के बौद्ध मठ मंदिर वन क्षेत्र के बीच में बने नहर के पूर्व और पश्चिमी किनारे पर बने हैं। अब मैं नहर के पश्चिमी तट पर बने मंदिरों को देखने निकल पड़ा हूं। पर इस भीषण गर्मी में बार बार पानी और जूस का सहारा लेना पड़ रहा है, ताकि कड़ी धूम में साइ...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
Vidyut Maurya
27
लुंबिनी वन क्षेत्र में मैं साइकिल से गेट नंबर 4 से प्रवेश कर गया हूं। दोनों तरफ हरे भरे जंगल हैं। साल के लंबे वृक्ष के बीच से गुजरते हुए जून के महीने में भीषण गर्मी के बीच राहत का एहसास हो रहा है। आगे नन्ही सी नदी तलार का पुल आया। लुंबिनी के इस वन क्षेत्र में कई पक...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
Vidyut Maurya
27
सिद्धार्थ यातायात की मिनी बस में बैठकर मैं लुंबिनी के लिए चल पड़ा हूं। नेपाल में इन सभी जगह पर भारतीय मुद्रा चलती है। इसलिए मैंने एनसी यानी नेपाली करेंसी नहीं ली है। एक भारतीय रुपया 1.60 नेपाली रुपये के बराबर है। इसी तरह से आप हर जगह भारतीय करेंसी भी भुगतान कर सकते...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA NEPAL
Vidyut Maurya
27
पिपरहवा स्मारक देखने के बाद आगे निकल पड़ा हूं। यहां मौजूद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के स्टाफ ने बताया कि आप आगे जाकर गनवरिया के प्राचीन स्मारक भी देख लें। सड़क पर लगे मार्ग संकेतक में दो प्रमुख बौद्ध स्थलों की दूरी यहां से लिखी गई है। कुशीनगर 147 किलोमीटर और श्रावस...
 पोस्ट लेवल : BUDDHA UTTAR PRADESH NEPAL