ब्लॉगसेतु

Abhishek Kumar
0
महक बहुत अजीब होती है. नास्टैल्जिया लिए हुए अक्सर. हवाओं में सर्दियीं वाली खुशबु महसूस होने लगी है. घर में हूँ, पटना में... और पुराने अटैची से जाड़ो के कपड़े, रजाई निकाल लिए गए हैं... सूटकेस में बंद जाड़ों के कपड़ों से बड़ी अनोखी महक आती है, बहुत कुछ याद दिलाती है. बशी...
Abhishek Kumar
0
जन्मदिन हो या एनिवर्सरी या फिर कोई त्यौहार पर्व... इस साल कुछ भी अच्छे तरीके से सेलिब्रेट नहीं हो पाया. सब लोगों ने घर में ही मनाया हर कुछ.. न किसी गेस्ट को बुलाया गया और नाही परिवार वालों को जमा किया गया. इस साल मेरा जन्मदिन, हमारा एनिवर्सरी, माँ पापा का एनिवर्सरी...
 पोस्ट लेवल : Birthdays Nikky Delhi Diaries Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
वैसे तो मार्च के बाद बाहर निकलना लोगों का बंद ही हो गया है. सब की तरह हम भी घर में बंद थे. अभी कुछ दिन पहले दिल्ली आना हुआ तो यहाँ दो तीन दिन काम के सिलसिले में बाहर निकलना पड़ा था. एक दिन कनौट प्लेस भी जाना हुआ. निक्की का अचानक से मन कर गया कि कहीं बाहर कुछ खाया जा...
 पोस्ट लेवल : Nikky A Beautiful Day Delhi Diaries Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
वैसे तो कोरोना हर तरफ कहर बरपा रहा है और हर कोई दहशत में है. हम भी दिल्ली आये हुए हैं और एक दिन दिल्ली में दो तीन काम थे जिसे निपटाने में हमें पूरे दिन का वक़्त लगना था. निक्की और मैंने तय किया कि हम सुबह सवेरे निकल जायेंगे और दोपहर तक सारे काम निपटा कर वापस लौट आये...
 पोस्ट लेवल : Nikky Delhi Diaries Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
किसे पता था ये दिन भी देखना पड़ेगा.. आज दिल्ली के लिए वापसी हो रही थी और ऐसा लग रहा था जैसे फ्लाइट पर नहीं जाना है, मानो हम जंग पर निकल रहे हों. फ्लाइट जिस दिन था, उसके एक सप्ताह पहले तक ये इनफार्मेशन कलेक्ट कर रहे थे कि क्या क्या नए नियम हैं फ्लाइट से. लॉकडाउन...
 पोस्ट लेवल : Nikky पटना Flight Stories Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
 मेहँदी, शायद हर उम्र की महिलाओं का पसंदीदा शगल है. बच्चियां से लेकर उम्रदराज महिलाओं को मेहँदी आकर्षित करती है. सच कहा जाए तो लड़कियों के हाथ पर मेहँदी हद खूबसूरत लगती हैं. मेरे यहाँ भी मेरी बहन को मेहँदी लगाने का खूब शौक था. उसने बाकायदा मेहँदी लगाना सीख...
 पोस्ट लेवल : Family Notes Nikky त्यौहार
Abhishek Kumar
0
इस लॉकडाउन जो एक चीज़ पुराना मिला वो था घर में पड़ा एक ताश के पत्तों का बण्डल, जो एक दिन यकायक मिल गया था घर की सफाई करते हुए. जैसा की पिछले कुछ पोस्ट में आपको बताया कि मेरी तबियत ख़राब हो गयी थी मार्च के आखिरी हफ्ते में, उस वक़्त ताश का खेल खूब हुआ.यह एक पुराने समय की...
 पोस्ट लेवल : Family Notes Nikky Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
मेरे भाई बहनों ने इस बार एक नयी साथी को घर में लाया है, जिसका नाम है डॉबी..वो एक प्यारा सा सदस्य है घर का जो इतने कम समय में ही सब घरवालों का चहेता बन गया है. डॉबी मेरे नानी घर आया है. वहां मेरा भाई तन्मय इसे घर लाया था. इस लॉकडाउन में इसने सब का मन लगा कर रखा...
 पोस्ट लेवल : Family Notes Nikky Dobby Lockdown Diaries
Abhishek Kumar
0
कल से जहाँ देश में लॉकडाउन  खुल गया है, तब से मन में लगातार कुलबुली उठ रही थी कि ब्लॉग के लॉकडाउन का भी कुछ किया जाए. अक्सर एक दो महीने में ब्लॉग की याद तो आ ही जाती थी, इस बार लेकिन मामला कुछ ज्यादा लम्बा हो गया. जब लॉकडाउन शुरू हुआ था तब सोचा था कि ब्लॉ...
 पोस्ट लेवल : Nikky A Beautiful Day पटना
Abhishek Kumar
0
इस साल के तीज पर बने पेड़कियेबचपन से ही तीज का पर्व मेरे लिए एक ख़ास पर्व रहा है. सच कहूँ तो उन दिनों इस पर्व का न तो कारण पता था और न महत्त्व या अर्थ, हम बच्चे तो बस तीज पर्व का इंतज़ार इसलिए करते थे कि इस पर्व में खोआ के पेड़किये (गुझिये) खाने को मिलते थे. तीज म...