ब्लॉगसेतु

Jot Chahal
313
Sacha Pyaar Nahi Hai (Hindi Poetry by Ranjot Singh ) Book Name:  The Voice of Heart Ebook : click here for buyPaperback : Click here for buy***सच्चा प्यार नहीं है***समुंदर में कश्ती किनारा नहीं है, तेरा मुझसे मिलना दोबारा नही...
 पोस्ट लेवल : Ranjot Singh Poems Jot Chahal
यूसुफ  किरमानी
200
मुँह पर साफ़ा बाँधे गुंडों की पहचान कैसे होगीवे सिर्फ जेएनयू में नहीं हैंवे सिर्फ एएमयू में नहीं हैंवे सिर्फ जामिया में नहीं हैंवे कहाँ नहीं हैंवे अब वहां भी है, जहां कोई नहीं है वे तो बिजनौर,मेरठ से लेकर मंगलौर तक में हैवे चैनलों में हैंवे अखबारों में हैंवे मंत्रा...
 पोस्ट लेवल : Hindi Poem Hindi Poetry Hindi Kavita Politics
rishabh shukla
239
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| #meremankee के YouTube चैनल को सब्सक्राइब करना...
rishabh shukla
239
#MereManKeeमेरा नाम ऋषभ शुक्ला है| मैं एक छाया चित्रकार, यात्री और चिट्ठा लेखक हूँ| मुख्य रूप से मुझे लिखना-पढ़ना, घूमना-फिरना और विभिन्न चीजों को कैमरे मे कैद करना पसंद है| मुझे कुछ नया करना पसंद है| इस चैनल के माध्यम से मैं ऐसे ही अनेक वीडियो के साथ प्रस्तुत हूँ|...
मुकेश कुमार
210
ज़ीरो डिग्री पर जम जानारूम टेम्परेचर पर पिघल जानासौ पर खौलने लगनातापमान का ये प्रतिकारक असरपरिवर्तित होता रहता है स्थिति के अनुरूपलेकिनस्नेह किअजब-गजब अनुभूतिरहने नहीं देता एक सा तापमानएक हलकी सी स्मित मुस्कानऔर फिरभरभरा कर गुस्स्से से चूर व्यक्तिटप से बहा देता...
Rajeev Upadhyay
365
डाकिए ने थाप दी हौले से आज दरवाजे पर मेरे कि तुम्हारा ख़त मिला। तुमने हाल सबके सुनाए ख़त-ए-मजमून में कुछ हाल तुमने ना मगर अपना सुनाया ना ही पूछा किस हाल में हूँ? कि तुम्हारा ख़त मिला। बता क्या जवाब दूँ मैं तुमको?&...
 पोस्ट लेवल : Hindi Poem Literature
नई कलम
358
नज़्म १ (ख़ुदा)एक ही पैगाम थातो क्यू इजाद की गईये अलग-अलग राहें?क्यू बांटना पड़ाएक ही पैगाम कोअलग-अलगकिताबों में?क्यू तामीर नहीं की गईएक ही मुकद्दस किताब?के जिसमें सिर्फ मुहब्बत मुहब्बतऔर मुहब्बत होती.....इसके अलावा कुछ नहींजिसे एक होना थागर वो एक होतातो फिर क...
नई कलम
358
चूहे की घड़ी ==========टिक टिक टिक कौन चूहा बैठा है मौन बिल्ली से नाराज़ है शैतानी से बाज़ है खाना भी ना खाया है मनाए उसे कौन...घड़ी चुरायी बिल्ली ने खरीदी थी जो दिल्ली में बिल्ली से ये डरता है गली में बनता डॉन...टिक...
मुकेश कुमार
210
जी रहे हैं या यूँ कहें कि जी रहे थेढेरों परेशानियों संगथी कुछ खुशियाँ भी हमारे हिस्सेजिनको सतरंगी नजरों के साथहमने महसूस करबिखेरी खिलखिलाहटेंकुछ अहमियत रखते अपनों के लिएहम चमकती बिंदिया ही रहेउनके चौड़े माथे कीइन्ही बीतते हुए समयों मेंकुछ खूबियाँ ढूंढ कर सहेजी भीकभी...
rishabh shukla
239
Ram Janm Bhumi Ayodhyaराम लला अब आयेंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे|ज़न मानस मन भायेंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे||मंदिर वहीं बनाएंगे... तुम हो करुणा सागर, मर्यादापुरुषोत्तम सब के प्रिय, तेरी अमिट छवि है हर हृदय मे, बाट जोहती सबकी आँखे, अब मेरे...