ब्लॉगसेतु

Sanjay  Grover
416
लोग ग़ौर से देख रहे थे।कौन किसका पंजा झुकाता है ? कौतुहल.....उत्तेजना......सनसनी....जोश.....उत्सुकता......संघर्ष....प्रतिस्पर्धा.....प्रतियोगिता.....ईर्ष्या......नफ़रत......जलन.....धुंधला ही सही, लोगों को कुछ-कुछ नज़र आ हा था क्यों कि हाथों में अलग-अलग रंगों के द...
Ravi Parwani
483
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});  हेलो दोस्तों , काम में व्यस्त होने के कारण काफी लम्बे समय से एक भी आर्टिकल नहीं लिख पाया पर आज जो मेरा यह आर्टिकल है वह बहुत ही मजेदार और जानदार है |बच्चे तो भगवान का रूप होते है उनको जो भी देखे वह प्यार करने...