ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
20
यूसुफ  किरमानी
207
मुग़ल काल के दौरान अकबर ने भारत में 50 साल तक शासन किया। उसने उस समय चाँदी के जो सिक्के जारी किए उन पर राम सीता की तस्वीर है। (फोटो नीचे देखें) ...इतिहास टटोल डालिए उस वक़्त किसी मौलवी या मुफ़्ती ने अकबर के खिलाफ फ़तवा जारी नहीं किया। अकबर से पहले बाबर और हुमा...
यूसुफ  किरमानी
207
इंग्लैंड और न्यूज़ीलैंड के बीच कल खेले गए वर्ल्ड कप फ़ाइनल से भारत के लोग बहुत कुछ सीख सकते हैं। ...क्या आपको दोनों देशों के क्रिकेट प्रेमियों की कोई उन्मादी तस्वीर दिखाई दी कि कोई जीत के लिए हवन करा रहा हो या मस्जिद में दुआ कर रहा है? क्या इंग्लैंड की जीत के बाद न...
Navin Joshi
148
(sc_adv_out = window.sc_adv_out || []).push({ id : "461243", domain : "n.ads1-adnow.com" }); नवीन समाचार, 16 अप्रैल 2019। अपनी हथेली में मौजूद रेखा आपके बारे में ऐसे रहस्य खोलती है जिसके बारे में आप कभी सोच भी नहीं सकते। अगर आप इन रेखाओं का मतलब...
 पोस्ट लेवल : Religion
S.M. MAsoom
151
जौनपुर एक ऐतिहासिक शहर है जसके बारे में दुनिया को काम बताया गया | जौनपुर को  धार्मिक नगरी भी कहा जा सकता है क्यों की यहाँ रामचंद्र जी का कई बार आगमन हुआ , परशुराम जी की जन्मस्थली के साथ साथ पैगम्बर ऐ हज़रत मुहम्मद की नस्लें भी यहाँ मजूद है और एक समय में...
 पोस्ट लेवल : Religion and Spirituality Editorial
S.M. MAsoom
33
जौनपुर एक ऐतिहासिक शहर है जसके बारे में दुनिया को काम बताया गया | जौनपुर को  धार्मिक नगरी भी कहा जा सकता है क्यों की यहाँ रामचंद्र जी का कई बार आगमन हुआ , परशुराम जी की जन्मस्थली के साथ साथ पैगम्बर ऐ हज़रत मुहम्मद की नस्लें भी यहाँ मजूद है और एक समय में सौ...
Sanjay  Grover
393
आप भी देख ही रहे होंगे, एक न एक न्यूज़-चैनल दिखा रहा होगा कि किस तरह त्यौहारों पर हर जगह मिलावटी मिठाईयां मिलतीं हैं जो स्वास्थ्य के लिए बेहद ख़तरनाक़ होतीं हैं। यहां क़ाबिले-ग़ौर तथ्य यह है कि सभी त्यौहार धर्म से जुड़े हैं, दुकानदार और सप्लाईकर्त्ता भी धार्मिक ही होते...
Sanjay  Grover
393
आप ख़रगोश को देखेंगे और पहचान जाएंगे कि ख़रगोश है। बैल दिखे, घोड़ा दिखे, कबूतर दिखे, रीछ दिखे, सबको आसानी से पहचान लेंगे। उनकी कुछ आदतें हैं, रंग-रुप है, स्वभाव है, जो सामने है ; थोड़ा-बहुत फ़र्क होगा, लेकिन पहचान लेंगे। और आदमी को भी पहचान लेंगे, वह भी साफ़ दिखाई पड़ता...
यूसुफ  किरमानी
207
 नवभारत टाइम्स (एनबीटी) में आज 26 दिसंबर 2018 को प्रकाशित मेरा लेख...आजकल 2019 का अजेंडा तय किया जा रहा है। हर चुनाव से पहले यह होता है। लेकिन इस बार एक बात नई है। इस बार अजेंडा ‘धर्म बनाम किसान’ हो गया है जबकि इससे पहले भारत में चुनाव गरीबी हटाओ, भ्रष्टाचार...
Kajal Kumar
20