ब्लॉगसेतु

Rajeev Upadhyay
338
It is small story book consisting three stories namely ‘Literature Kotha’, ‘Perfume’ and ‘The House of Widows’. The first story ‘Literature Kotha’ is about a prostitute who loves to read English literature. This story has a very large canvas but the story ends per...
 पोस्ट लेवल : Book Review English Article
Rajeev Upadhyay
338
Entrepreneurship is an adventure which attracts so many but very few could actually commit themselves to it because of the uncertainty associated. There is an ocean of books on entrepreneurship by professors and many successful entrepreneurs on this subject with re...
 पोस्ट लेवल : Book Review
kavita verma
249
थप्पड़ की गूंज इन दिनों पूरे देश में है। चर्चा पक्ष में भी है विपक्ष में भी। एक थप्पड़ मारे जाने पर क्या कोई तलाक ले लेता है? ये बुद्धिजीवी सोच है जो भारत की संस्कृति को बर्बाद करना चाहती है। इसीलिए शादियाँ टूट रही हैं तलाक हो रहे हैं। आजकल की पढी लिखी लडकियाँ निभा...
 पोस्ट लेवल : #थप्पड़ #thappad #review #law
Bharat Tiwari
20
मार्क्सवाद का अर्धसत्य के बहाने एकालाप— पंकज शर्माअनंत ने पूरी दुनियाभर के जनसंघर्षों को एक नया आयाम प्रदान करने वाले महानायक के निजी जीवन संदर्भों के हवाले से उन्हें खलनायक घोषित कर दिया और भारतीय सामाजिक परंपरा के परिप्रेक्ष्य में उनका मूल्यांकन करने के फिराक में...
Bharat Tiwari
20
दुःख या सुख कई जगहों से आता रहता है और जाता भी रहता है - शर्मिला बोहरा जालानसमीक्षा: जयशंकर की प्रतिनिधि कहानियांदुःख या सुख कई जगहों से आता रहता है और जाता भी रहता है। यह सब कुछ बहुस्तरीय चेतना से होता है जिन्हें मैं इन कहानियों में हर बार नए ढंग से पढ़ और समझ पाती...
MediaLink Ravinder
448
Mailed: 9th January 2020 at 3:34 PMपरवाज़ की बातें करती कहानियाँ ...//श्रद्धा श्रीवास्तवपुस्तक संसार: 11 जनवरी 2020: (श्रद्धा श्रीवास्तव//हिंदी स्क्रीन)::मुक्तिबोध का कथन है–सच्चा लेखक खुद का दुश्मन होता है, वह अपनी आत्मशांति को भंग करके ही लेखक हो सकता है। कविता वर...
Bharat Tiwari
20
Chhapaak Review: छपाक से देखो  छपाक हर उस युवती की फिल्म है जिसने कुछ कर दिखाने का सपना देखा हैChhapaak Review: दीपिका और मेघना की जुगलबंदी ने किया कमाल, तपाक से देख आइए छपाकसाभार अमर उजाला छपाक का रिव्यु कलाकार: दीपिका पादुकोण, विक्रांत मैसी, म...
डॉ. राहुल मिश्र Dr. Rahul Misra
563
बुंदेलखंड से सूरीनाम तक की यात्रा-कथा(एक गिरमिटिया की गौरवगाथा)अगर यह पता चले, कि रामलीला देखने का शौक भी किसी के लिए मुसीबत का सबब बन सकता है, और रामलीला देखने के लिए जाना ही किसी व्यक्ति के जीवन में ऐसी ‘रामलीला’ का रूप ले सकता है, कि चौदह वर्षों के बजाय जीवन-भर...
डॉ. राहुल मिश्र Dr. Rahul Misra
563
फूलबाग नौचौक में बैठे राजा राम...मधुकरशाह महाराज की रानी कुँवरि गणेश ।अवधपुरी से ओरछा लाई अवध नरेश ।।सात धार सरजू बहै नगर ओरछा धाम ।फूल बाग नौचौक में बैठे राजा राम ।।तुंगारैन प्रसिद्ध है नीर भरे भरपूर ।वेत्रवती गंगा बहै पातक हरै जरूर ।।राजा अवध नरेश को सिंहासन दरबा...
Lokendra Singh
101
वैसे तो 'राष्ट्रवाद' सदैव ही जनसाधारण की चर्चाओं से लेकर अकादमिक विमर्श के केंद्र में रहता है। किंतु, वर्तमान समय में राष्ट्रवाद की चर्चा जोरों पर है। राष्ट्रवाद का जिक्र बार-बार आ रहा है। राष्ट्रवाद को 'उपसर्ग' की तरह भी प्रयोग में लिया जा रहा है, यथा- राष्ट्रवादी...