ब्लॉगसेतु

rishabh shukla
661
कोरोना वायरस क्या है? इसकी उत्पत्ति कहाँ और कैसे हुई?कोरोनावायरस (Coronavirus) कई वायरसो का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग के कारक होते हैं। यह आरएनए वायरस होते हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण&...
rishabh shukla
484
नमस्कार, स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर| "मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी| आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| #meremankee के YouTube चैनल को सब्सक्राइब करना न भूल...
rishabh shukla
484
नमस्कार, स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर| "मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी| आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| #meremankee के YouTube चैनल को सब्सक्राइब करना न भूल...
rishabh shukla
484
A song by an old man from Bhadohi, Uttar Pradesh, in praise of our Prime Minister Narendra Damodar Das Modi and Uttar Pradesh Chief Minister Adityanath Yogi. Share, Support, Subscribe!!! Mere Man Kee | Book | Hindi | Poem | Rishabh Shukla | - https://youtu.be/2...
rishabh shukla
484
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनंद ले सकते हैं| #meremankee के YouTube चैनल को सब्सक्राइब करना...
rishabh shukla
484
#MereManKeeमेरा नाम ऋषभ शुक्ला है| मैं एक छाया चित्रकार, यात्री और चिट्ठा लेखक हूँ| मुख्य रूप से मुझे लिखना-पढ़ना, घूमना-फिरना और विभिन्न चीजों को कैमरे मे कैद करना पसंद है| मुझे कुछ नया करना पसंद है| इस चैनल के माध्यम से मैं ऐसे ही अनेक वीडियो के साथ प्रस्तुत हूँ|...
rishabh shukla
484
Ram Janm Bhumi Ayodhyaराम लला अब आयेंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे|ज़न मानस मन भायेंगे, मंदिर वहीं बनाएंगे||मंदिर वहीं बनाएंगे... तुम हो करुणा सागर, मर्यादापुरुषोत्तम सब के प्रिय, तेरी अमिट छवि है हर हृदय मे, बाट जोहती सबकी आँखे, अब मेरे...
rishabh shukla
484
Har Ghar Me Vibhishana Baitha Haiअब बड़ी मुश्किल है लड़ाई,हर घर मे विभीषण बैठा है|मुश्किल है अब चढ़ाई,हर घर मे विभीषण बैठा है||तुम सेंध लगाए बैठे थे,किसी दूसरे के घर पर,कोई तुम्हारा घर ही लूट गया,हर घर में विभीषण बैठा है||तुम हो वीर, शक्तिशाली,रण तुमसे घबराता है|फि...
rishabh shukla
484
Aloneना कोई दोस्त मेरा,ना है हमदर्द कोई,अपना कहने को तो कई,लेकिन अपनापन नहीं है|मैं अकेला हूँ...ना कोई है हँसी,ना कोई ठिठोली करने वाला,दर्द देने को कई तैयार बैठे हैंलेकिन कोई हमदर्द नहीं है|मैं अकेला हूँ....कोई कैसे इतना,उलझ जाता है जिंदगी में,की भूल जाता है,कि कोई...
rishabh shukla
484
Journeyक्या तुम मुझसे मिल कर, यूँ ही खो जाते हो|वैसे ही सपनों के समंदर मे, गोते खाते हो||इस जीवन पथ पर.... जैसे मैं घुल जाती हूँ, तेरे यादो, जज्बातों मे|जैसे कई लोग मेरे कानो मे,सुन्दर गीत गाते हैं||इस जीवन पथ पर..... क्या तुम भी रोते हो,&n...