ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
0
रेणुरंग: फणीश्वरनाथ रेणु की जन्मशती पर 10 चर्चित कहानियों का पुनर्पाठ. शब्दांकन और मैला आँचल ग्रुप की प्रस्तुति.नैना जोगिनसंघर्ष के भीतर ममत्व की फुहारें— रोहिणी अग्रवालधनुष की खिंची हुई प्रत्यंचा है नैना जोगिन! साक्षात् भैरवी! दुर्वासा ऋषि का स्त्री अवता...
Bharat Tiwari
0
कहानी की समीक्षा कैसे करें | तंत्र और आलोचना — रोहिणी अग्रवाल‘तेरह नंबर वाली फायर ब्रिगेड‘रोहिणी अग्रवालमहर्षि दयानंद विश्वविद्यालय,रोहतक, हरियाणामेल: rohini1959@gmail.comमो० : 9416053847कौतूहल और पठनीयता - ये दो ऐसी विशिष्टताएं है जो कथा साहित्य की रीढ़ हैं, लेकिन...
Bharat Tiwari
0
हिन्दी रेखाचित्र : रोहिणी अग्रवाल — दादी की खटोली में आसमान का चंदोवा  हिन्दी रेखाचित्र : रोहिणी अग्रवाल — दादी की खटोली में आसमान का चंदोवा लेकिन मां के लिए एक कोना भी नहीं। मां की निजी जरूरतों के लिए! एकांत पाकर अपने चित्त को सुस्थिर करने के लिए! बर्तनो...
Bharat Tiwari
0
’शाल्मली’ के बहाने स्त्री विमर्श पर चर्चा उर्फ  (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ’’नियम और धर्म केवल कागज पर लिखने के लिए होते हैं या फिर तुम औरतों के लिए बनाए जाते हैं। इनसे हट कर एक और कानून होता है जो हम मर्दों के बीच प्रचलि...
Bharat Tiwari
0
Padtal Prem Kahaniyon ki —  Rohini Aggarwalचुप्पी में पगे शुभाशीष बनाम पचास साल का अंतराल और प्रेम को रौंदती आक्रामकता — रोहिणी अग्रवालअज्ञेय की कहानी 'पठार का धीरज' से कुछ दृश्य और संवाद . . .थोड़ी दूर पर एक स्त्री स्वर बोला, 'तुम लोग वास्तव से भागना...
Bharat Tiwari
0
Kautuhal se Aatmasakshatkar tak faila Kahani ka Vitaan— Rohini Agrawalहिंदी साहित्यिक कहानी के अवयवों को आधुनिक दृष्टि से दोबारा परिभाषित किये जाने की कितनी आवश्यकता थी यह वरिष्ठ आलोचक रोहिणी अग्रवाल के 'रचना समय' जनवरी 2016  में प्रकाशित इस लेख को पढ़ने स...