ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
0
नवगीतसड़क पर*सड़क परसिसकती-घिसटती हैं साँसें।*इज्जत की इज्जतयहाँ कौन करता?हल्ले के हाथोंसिसक मौन मरता।झुठला दे सच,अफसरी झूठ धाँसे।जबरा यहाँ जोवही जीतता है।सच का घड़ा तोसदा रीतता है।शरीफों को लुच्चेयहाँ रोज ठाँसें।*सौदा मतों काबलवा कराता।मज़हबपरस्तोंको, फतवा डरता।स...
 पोस्ट लेवल : navgeet sadak par नवगीत सड़क पर
sanjiv verma salil
0
पुस्तक चर्चा*''सडक़ पर'' नवगीत संग्रह, गीतकार-आचार्य संजीव वर्मा ' सलिल 'संतोष शुक्ल * आचार्य संजीव वर्मा ' सलिल ' जी का नाम नवीन छंदों के निर्माण तथा उनपर गहनता से कये गए कार्यों के लिए प्रबुद्ध जगत में बड़े गौरव से लिया जाता है। माँ भारती के वरदपुत्र आचा...
Kajal Kumar
0
 पोस्ट लेवल : pension साधु sadhu पेंशन
sanjiv verma salil
0
समीक्षा:आश्वस्त करता नवगीत संग्रह 'सड़क पर'देवकीनंदन 'शांत'*[कृति विववरण: सड़क पर, गीत-नवगीत संग्रह, आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल', प्रथम संस्करण २०१८, आकार २१ x  १४ से.मी., आवरण पेपरबैक बहुरंगी, कलाकार मयंक वर्मा, पृष्ठ ९६, मूल्य २५०/-, समन्वय प्रकाशन अभियान,...
Jot Chahal
0
1
 पोस्ट लेवल : Hindi Shayari Dard Shayari Sad Shayari
sanjiv verma salil
0
विशेष लेख:हाइकु तथा कुछ अन्य जापानी काव्य रूप आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *हाइकु सामान्यतः ३ पंक्तियों की वह लघु काव्य रचना है जिसमें सामान्यतः क्रमश: ५-७-५ ध्वनियों का प्रयोग कर एक अनुभूति या छवि की अभिव्यक्ति की जाती है। हिंदी को त्रिपदिक छंदों की विरासत...
sanjiv verma salil
0
कृति चर्चा:शब्दांजलि : गीतिकाव्यमय भावांजलि आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण: शब्दांजलि, काव्य संग्रह, रामचंद्र प्रसाद 'कर्ण', प्रथम संस्करण २०१७, आई एस बी एन ९७८९३८ ७१४९२०५, आकार २१ से. x  १३.५ से., आवरण बहुरंगी पेपरबैक, पृष्ठ १०८, मूल्य १३०/-, लोको...
Jot Chahal
0
'My heart longs for you, my soul dies for you, my eyes cry for you, my empty arms reach out for you.'___________________________________________________________ What do you do when the one who broke your heart is the only one who con fix it.___________________...
 पोस्ट लेवल : Life Quotes Broken Heart Sad Quotes
Jot Chahal
0
हजारो रात में एक रात होती है... सुकून मिलता है जब तुमसे बात होती है..--------------------एक☝#चाहत
Jot Chahal
0
किसी को तकलीफ देना मेरी आदत नही, बिन बुलाया मेहमान बनना मेरी आदत नही…!! मैं अपने गम में रहता हूँ नबाबों की तरह, परायी खुशियो के पास जाना मेरी आदत नही…!! सबको हँसता ही देखना चाहता हूँ मै, किसी को धोखे से भी रुलाना मेरी आदत नही…!! बांटना चाहता हूँ...
 पोस्ट लेवल : New 2018 Sad Shyari