ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
25
साहित्यिक-राजनीतिक वजहों से उपेक्षित कर दी गई धर्मवीर भारती की कहानी 'गुलकी बन्नो' अपनी कथावस्तु, विन्यास और विलक्षण विवरणात्मकता में प्रगतिशील परंपरा की अत्यंत महत्वपूर्ण यथार्थवादी कहानी है. — उदय प्रकाशगुलकी बन्नो: धर्मवीर भारतीDharamveer Bharti Short Stories in...
rambilas garg
120
               बहुत पहले रहीम ने कहा था ,रहिमन पानी राखिए बिन पानी सब सून,पानी गए न ऊबरै, माटी, मानुस, चून।लेकिन लोगों में पानी नहीं बचा। जिन लोगों पर पानी का इंतजाम करने का जिम्मा था, उनमे तो बिलकुल ही नहीं बचा। इसलिए सब जगह...
Sanjay  Grover
410
लघुकथाकुछ सफल लोग आए कि आओ तुम्हे दुनियादारी सिखाएं, व्यापार समझाएं, होशियारी सिखाएं।और मुझे बेईमानी सिखाने लगे।अगर मुझे बचपन से अंदाज़ा न होता कि दुनियादारी क्या है तो मेरी आंखें हैरत से फट जातीं।-संजय ग्रोवर05-08-2019
Tejas Poonia
380
किसी भी कहानी को लिखने के लिए लेखक के पास सबसे अहम चीज जो होनी चाहिए ; वह है उसके पात्र। बिना कहानी के पात्रों के आप या हम किसी भी कहानी की सर्जना नहीं कर सकते। हालांकि साहित्यिक कैटेगरी के अनुसार उसमें छ: तत्व होने जरूरी होते हैं, किन्तु जब उस कहानी को आप फिल्मा र...
Tejas Poonia
380
अब तक जितना भी लिखा है कहानी, कविता, लेख, आलेख उन सभी को धीरे- धीरे ब्लॉग पर एक जगह एकत्र करने का प्रयास है। इसी संदर्भ में पढ़िए मेरी दूसरी प्रकाशित कहानी ' अधूरा प्रण' समलैंगिकता के विषय को आधार बनाकर लिखी गई यह मेरी पहली कहानी थी। दूसरी कहानी (इसी विषय पर केंद्रि...
Devendra Gehlod
60
..............................
 पोस्ट लेवल : bal-sahitya short-story suryakant-tripathi-nirala
zeashan zaidi
148
‘‘तान्या, ये मक्खियाँ नहीं हैं। इनमें से एक हमारे सम्राट हैं।’’‘‘एक मक्खी तुम्हारी सम्राट!’’ तान्या जोर से हँस पड़ी।उसी वक्त दोनों मक्खियाँ अपना आकार बदलने लगीं। थोड़ी ही देर में उनका शरीर हाथी जितना विशाल हो चुका था।’’ तान्या ने देखा उनमें से एक मक्खी गुस्से से...
zeashan zaidi
148
 तान्या के ग्रुप में एक हलचल सी मच गयी थी।‘‘बगैर शादी के बच्चा! मुझे उम्मीद ही नहीं थी तान्या ऐसी होगी।’’ रिजवान ने कहा। साथ में अपने कानों को हाथ भी लगा लिया था।‘‘तान्या किसी देवी की तरह पवित्र है। तुम उसके बारे में ऐसी बातें सोच भी नहीं सकते।’’ रोहित ने थोड़ा...
zeashan zaidi
148
जब तान्या को होश  आया तो उसने अपने को एक सफेद बिस्तर पर पड़े देखा। पूरा ग्रुप उसे चारों तरफ से घेरे खड़ा था। सभी के चेहरे से परेशानी जाहिर हो रही थी। तान्या को आँखें खोलते देखकर सभी के चेहरे पर इत्मिनान की एक लहर दौड़ गयी।‘‘तान्या तुम ठीक तो हो?’’ रोहित...
zeashan zaidi
148
ज़ीशान -ज़ैदी  लेखकशहर के बीचोंबीच स्थित स्ट्रोक्स आर्ट गैलरी में कलाप्रेमी दर्शकों का हुजूम लगा हुआ था। माडर्न आर्ट की इस प्रदर्शनी में विश्व के कई नामी गिरामी चित्रकारों की पेंटिग्स मौजूद थीं। वहाँ मौजूद दर्शकों में कालेज छात्रों का एक ग्रु...